बलरामपुर, जागरण संवाददाता। प्राथामिक स्वास्थ्य केंद्र पुरैना वाजिद में चिकित्सकों व कर्मियों के गायब रहने से मरीजों को दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। दोपहर एक बजे पर्चा काउंटर पर बैठे वार्ड ब्वाय मोहम्मद इसराइल बैठे मिले। बताया कि कुछ कर्मी आए थे वह चले गए हैं। डा. तारीक सिद्दीकी की कुर्सी खाली मिली। जननी सुरक्षा वार्ड में ताला लटकता मिला। अस्पताल में नर्स सुमन यादव व काजल की तैनाती है। 

ग्रामीणों ने बताया कि 10 दिन पहले प्रसव केंद्र का उद्घाटन हुआ था, लेकिन अक्सर जननी सुरक्षा केंद्र बंद रहता है। दवा काउंटर खाली था। फार्मासिस्ट मोहम्मद गुफरान अली की कुर्सी खाली थी अस्पताल का आवासीय परिसर बदहाल मिला।

नहीं मिलती कोई सुविधा

ग्रामीण सुरेश कुमार, गुड्डू, चंद्र प्रकाश का आरोप है कि डाक्टर व कर्मियों के गायब रहने से वार्ड ब्वाय से इलाज कराने की मजबूरी है। सीएचसी श्रीदत्तगंज से आठ किलोमीटर दूर बने अस्पताल में प्रतिदिन 30 से 35 की ओपीडी है। मरीजों को सही परामर्श व दवाएं नहीं मिल पा रही हैं। लाखों रुपये का भवन निष्प्रयोज्य है। परिसर में गंदगी फैली है। अस्पताल में जांच उपकरण नहीं है। पक्का मार्ग नहीं है। छत से बरसात में पानी टपकने लगता है। दवाओं का अभाव है। जांच की सुविधाएं भी नहीं है।

बजट के अभाव में नहीं हुई मरम्मत

अधीक्षक डा. विकल्प मिश्र ने कहा, अस्पताल में समय से न आने वाले कर्मियों से जवाब तलब किया जाएगा। निरीक्षण में अनुपस्थिति मिलने पर वेतन भी रोका जायेगा। बजट के अभाव में छत की मरम्मत नहीं हो सकी है। बजट मिलते ही मरम्मत कराया जाएगा।

Edited By: Shivam Yadav