बलरामपुर: गोंडा से बलरामपुर सुरक्षित सीट से 2017 में भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़ने आए पल्टूराम ने कांग्रेस-सपा के प्रत्याशी शिवलाल को हराकर विधायक बने। विधायक बनने के बाद से पल्टूराम की लोकप्रियता बढ़ती गई। सरल व क्षेत्रवासियों के बीच रहने की छवि ने प्रदेश सरकार में उन्हें मंत्री की ताजपोशी से नवाजा गया। योगी सरकार में मंत्री बनाए जाने की सूचना मिलते ही समर्थक खुशी से झूम उठे।

चुनावी सभा हो या सरकारी बैठक सदर विधायक अपने संबोधन से सभी को बांधे रखते हैं। एक प्रखर वक्ता की कला से वह लोगों को खूब भाते हैं। जिले से पल्टूराम को चौथा मंत्री बनने का गौरव मिला है। इनसे पहले भाजपा के सदर सीट से विधायक रहे हनुमंत सिंह को कल्याण सिंह सरकार में गन्ना मंत्री बनाया गया था। सपा सरकार में डा. एसपी यादव दो बार मंत्री रह चुके हैं। कांग्रेस से डा. विनय कुमार पांडेय को भी मंत्री का ताज मिल चुका है। जिले से चौथे मंत्री सदर विधायक पल्टूराम हैं। उनके विधायक काल में फुलवरिया बाइपास मार्ग का चौड़ीकरण व बहुप्रतीक्षित ओवरब्रिज का निर्माण शुरू हो गया है। नगर सीवर लाइन प्रोजेक्ट का भी विधायक ने शिलान्यास किया है।

एक माह से मंत्री बनने की चल रही थी चर्चा:

भाजपा की सरकार बनते ही मंत्री बनने की चर्चा चल रही थी, क्योंकि जिले की चारों सीट पर भाजपा के विधायक हैं। इधर एक माह से योगी सरकार में मंत्री मंडल विस्तार की चर्चा तेज होने पर सदर विधायक पल्टूराम को मंत्री बनने की रेस में सबसे आगे माना जा रहा था। जो रविवार को सच साबित हुआ। सदर विधायक के प्रतिनिधि बृजेंद्र तिवारी का कहना है कि शनिवार शाम को ही लखनऊ कार्यालय बुलाए जाने से मंत्री बनने की संभावना प्रबल हो गई थी। समर्थकों व क्षेत्रवासियों में खुशी है।

Edited By: Jagran