जागरण संवाददाता, बलिया : कोरोना काल में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दूसरी बार शुक्रवार को बलिया पहुंचे। उन्होंने जिला अस्पताल में 11.48 बजे प्रवेश किया। यहां आते ही वह पहले इमरजेंसी वार्ड में पहुंचे। उन्होंने यहां नान कोविड वार्ड में भर्ती मरीजों से बात की।

सीएम की सबसे पहले नजर वार्ड में भर्ती 75 साल के बुजुर्ग कुष्णा पांडेय पर पड़ी। वह पांडेयपुर के निवासी हैं और सांस लेने में दिक्कत होने पर अस्पताल में पांच दिनों से भर्ती हैं। मुख्यमंत्री उनके बेड के समीप पहुंचे और उनसे पूछा, '.. अस्पताल में सबकुछ ठीक है न ? आपको उपचार में कोई दिक्कत तो नहीं हो रही है..?' इस पर बुजुर्ग बोले. '..हां, महराज जी. सबकुछ ठीक बा. दवा भी अस्पताल से ही मिल रहल बा. डाक्टर भी समय-समय पर देख जात बाड़न लोग, साफ-सफाई ठीक बा.. ' बुजुर्ग की ओर से ऐसा जवाब सुन मुख्यमंत्री के चेहरे पर संतोष का भाव तैर गया।

--

हल्दी की खुश्बू से भी की बात

इसी वार्ड में हल्दी की निवासिनी 18 साल की युवती खुश्बू भी पिछले छह दिनों से भर्ती हैं। उनसे मुख्यमंत्री ने पूछा, 'क्या परेशानी है?' युवती ने बताया, '15 दिनों से बुखार नहीं छोड़ रहा। यहां भर्ती होने से पहले कई स्थानों पर दिखाया लेकिन आराम नहीं मिला, अब अस्पताल के उपचार से आराम है।' सीएम ने मौके पर मौजूद मरीज की मां आशा देवी व पिता अरविद सिंह से भी अस्पताल की व्यवस्था के बारे में पूछा। उन्हें दोनों ने बताया कि अस्पताल में उपचार की व्यवस्था ठीक है।

--

हर समय नहीं रहती ऐसी व्यवस्था :

इसी वार्ड में भर्ती शहर के मिड्ढ़ा निवासी युवक समीर कुमार गुप्ता ने बताया कि आक्सीजन लेवल कम होने पर वह आज ही सुबह चार बजे भर्ती हुए हैं। मुख्यमंत्री के आने से तीन घंटे पहले यहां की लापरवाही बेहिसाब थी। उनके आगमन से कुछ घंटे पहले बेडों पर नई चादर बिछाई जाने लगी। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने उनसे पूछा कि उपचार की व्यवस्था कैसी है, तो उन्होंने सबकुछ ठीक बताया लेकिन ऐसी व्यवस्था हर समय नहीं रहती।

--

हर दिन से अलग दिखा वैक्सीनेशन सेंटर : जिला अस्पताल के ट्रामा सेंटर को वैक्सीनेशन सेंटर बनाया गया है। नान कोविड वार्ड का निरीक्षण करने के बाद मुख्यमंत्री सीधे वैक्सीनेशन सेंटर पहुंचे। उन्होंने यहां टीकाकरण कक्ष का निरीक्षण किया। आज वैक्सीनेशन सेंटर हर दिन से अलग दिख रहा था। मुख्य गेट पर जो लोग बिना मास्क के आ रहे थे, उन्हें मास्क वितरित किया जा रहा था। वैक्सीन लगवाने के बाद लोगों के आधा घंटा बैठने के लिए अलग कक्ष में 10 कुर्सियां रखी हुई थीं। मुख्यमंत्री ने टीकाकरण की प्रगति के बारे में पूछा तो सीएमओ डा. राजेंद्र प्रसाद ने बताया कि जिले में कल तक 266139 लोगों को टीका लगाया जा चुका है। कोरोना के केस भी अब कम हो चले हैं। मुख्यमंत्री वैक्सीनेशन सेंटर के बाद जिला अस्पताल से रवाना हो गए। कुल मिलाकर वह 10 मिनट जिला अस्पताल में रहे। उन्होंने आरटीपीसीआर लैब और बच्चों के लिए तैयार हो रहे पीकू वार्ड का निरीक्षण नहीं किया। मुख्यमंत्री के साथ मंत्री उपेंद्र तिवारी, आनंद स्वरूप शुक्ल, डीएम अदिति सिंह, सीएमएस डा. बीपी सिंह सहित अन्य कई चिकित्सक भी मौजूद रहे।

--

काश ! ऐसा हर दिन दिखता जिला अस्पताल : मुख्यमंत्री के आगमन को लेकर शुक्रवार को मरीज काफी कम संख्या में पहुंचे थे। अस्पताल परिसर में लगातार पोंछा लगाया जा रहा था। अस्पताल के पिछले हिस्से में जहां कभी सफाई कर्मी झांकने तक नहीं जाते, वहां भी छिड़काव किया जा रहा था। मरीजों के लिए ह्वील चेयर भी उपलब्ध थी। यह सब देख कर परिसर में मौजूद तीमारदार कहने लगे- काश, जिला अस्पताल में हर दिन ऐसी ही व्यवस्था होती !

Edited By: Jagran