जागरण संवाददाता, बलिया : नगर के अंदर बारिश की बूंदों को सहेजने के लिए कोई व्यवस्था नहीं होने से भू-गर्भ लगातार नीचे खिसकता जा रहा है। इसके बाद भी जिम्मेदार भविष्य में आने वाले इस संकट को समझ नहीं पा रहे हैं। अगर हम सभी अभी से सजग नहीं होंगे तो आने वाले दिनों में पानी का संकट और बढ़ जाएगा। जल उपलब्धता को लेकर जनपद के आंकड़े चौंकाने वाले हैं। अंधाधुन जल के दोहन की वजह से बलिया में पानी की उपलब्धता काफी कम होती जा रही है। यहां अहम सवाल यह भी है कि जब जिम्मेदार ही इस मामले में लापरवाह हैं तो किसी और से यह उम्मीद कैसे की जा सकती है। भूजल स्तर के मामले में रसड़ा तहसील को डार्क जोन घोषित किया गया है। खोदाई तो हुई, अब झाड़ियों का डेरा

फेफना नया थाना परिसर में बने तालाब की स्थिति काफी दयनीय होती जा रही है। इस तालाब की की खोदाई तो बेहतर हुई थी, लेकिन इसमें पानी सदैव भरा रहे इसकी व्यवस्था नहीं की गई है। अभी के समय में दो दिन की बारिश की के बाद इसमें पानी जरूर भर गया है, लेकिन यह अल्प समय के लिए है। इसके सुंदरीकरण की ओर भी किसी का ध्यान नहीं है। इसके आस-पास चारों तरफ झाड़ियां उग आई हैं। वजूद खोने की कगार पर तालाब

जिला मुख्यालय से मात्र 12 किमी कि दूरी पर राजधानी रोड पर मनरेगा के तहत यादव बस्ती में बना तालाब अपनी वजूद खोने की कगार पर पहुंच चुका है। ऐसा नहीं है कि इस के निर्माण के बाद काम नहीं हुआ, पूर्व प्रधान व वर्तमान कि प्रधान की कोशिश भी इस तालाब के वजूद को बचाने में नाकाम रही। अब हालात यह हैं कि यह तालाब मिट्टी से भरता जा रहा है और इसकी गहराई भी कम होती जा रही है। तालाब में गिराते हैं गंदा पानी

सीयर ब्लाक के मुबारकरपुर गांव में एक भी पोखरा नहीं है। ऐसा नहीं कि यहां जल संचयन व पारंपरिक जल स्रोतों को बचाने को लेकर जनप्रतिनिधि या ग्रामीण जागरूक न हो कितु गांव में ग्राम पंचायत की भूमि न होने के कारण इसे लेकर जमीनी कार्य नहीं हो पाते। हालांकि गांव में अति प्राचीन दो विशाल तालाब ही गांव के वाटर लेवल को बचाने के लिए काफी है। कुछ लोगों द्वारा यहां गंदा पानी गिराया जाता है। जिससे इसका एक हिस्सा काफी गंदा रहता है कितु ग्रामीणों के आपसी सामंजस्य व प्रधान की पहल के बाद इस तालाब को ही काफी हद तक ग्रामीणों ने सहेज रखा है।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran