जासं, बिल्थरारोड (बलिया) : घाघरा नदी के कटान से बचाव के लिए उभांव थाना के टंगुनिया टीएस बंधे के समीप बन रहे कटानरोधी कार्य के दौरान सोमवार की सुबह मजदूरों के दो पक्षों में हिसक संघर्ष हुआ। इस घटना में दोनों पक्षों से कुल 10 लोग जख्मी हो गए, जिन्हें उपचार के लिए सीयर सीएचसी में भर्ती कराया गया। घायलों में एक पक्ष से छोटू राजभर (35), सुधीर राजभर (30), जितेंद्र राजभर (20) व लाल साहब (50) एवं दूसरे पक्ष से श्रीकिशुन साहनी (35), परमानंद साहनी (60), अमरजीत (25), अर्जुन (40), विद्यावती देवी (32) व रामबचन (22) शामिल हैं। हिसक संघर्ष के बाद कटानरोधी कार्य पूरी तरह से ठप हो गया। वहीं मौके पर कार्यदायी संस्था व संबंधित विभागीय अधिकारी पहले से न तो मौके पर थे और न ही संघर्ष के बाद पहुंचे। इसे लेकर जबरदस्त आक्रोश है। कटानरोधी कार्य को लेकर एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप का दौर चल रहा है।

घाघरा नदी के तटवर्ती इलाका में बलिया-मऊ के सीमा रेखा पर स्थित हाहानाला के पास टंगुनियां राजभर बस्ती से चैनपुर गुलौरा तक घाघरा की कटान से बचाव को करीब दो किलोमीटर में पांच ठोकरों का निर्माण कार्य चल रहा है, जहां संबंधित विभाग के एक भी जिम्मेदार जेई, एक्सईएन या कार्यदायी संस्था के जिम्मेदार मौके पर नहीं पहुंच रहे हैं। सब कांट्रैक्टर के तहत पिछले दस दिन से उक्त निर्माण कार्य में लगे मजदूरों में कार्य क्षेत्र को लेकर पहले से तनाव था। सोमवार दोपहर छोटू राजभर संग मजदूरों का एक पक्ष टीएस बंधे के ठोकर नंबर एक पर बोरियों में बालू भरने का कार्य कर रहे थे।

इस दौरान जवाहर साहनी संग मजदूरों के दूसरे पक्ष ने उसी स्थान पर बालू भरने का कार्य शुरू कर दिया, जिस पर पहले से कार्य कर रहे मजदूरों ने विरोध करना किया। इसी को लेकर दोनों पक्षों में जमकर हिसक संघर्ष हुआ। कुदाल व अन्य निर्माण में लगे औजार की चोट से दोनों पक्ष से दस लोग जख्मी हो गए। सूचना मिलते ही डायल 100 पुलिस ने मौके पर पहुंचकर एक पक्ष के चार घायलों को उपचार के लिए सीयर सीएचसी पहुंचाया जहां से चिताजनक हालत में उन्हें जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस