जागरण संवाददाता, दोकटी (बलिया) : कोरोना वायरस के लेकर सभी लोग सहमे हुए हैं। शहरों में लोग तरह-तरह की सतर्कता बरत रहे हैं। वहीं गांवों में वैदिक विधि से कोरोना से बचाव किया जा रहा है। यह वैदिक विधि है हवन यज्ञ। हवन कर लोग अपने गांव के वातावरण का शुद्ध करने में जुटे हैं। उनका मानना है कि वैदिक काल से ही यह परंपरा है कि किसी भी महामारी में हवन का धुआं पूरे वातावरण को शुद्ध कर देता है।

इसी क्रम में बैरिया विधान सभा के ग्राम पंचायत खवासपुर में पश्चमी बाबू के डेरा पंचमुखी हनुमान मंदिर मे हवन का वृहद आयोजन किया। इसमें बड़ी संख्या में लोगों ने पहुंच कर वैदिक मत्रोच्चार के बीच हवन किया। दिन के 11 बजे से आरंभ इस यज्ञ में पहले 108 बार हनुमान चालीसा का जाप हुआ, उसके बाद हवन शुरू हो गया जो शाम तक चला। इस आयोजन में मुख्य रूप से गुप्तेश्वर यादव, योगेंद्र कुमार, वीरेंद्र प्रधान, डा. राजकिशोर, मुकेश, चंदन, मुन्ना, बनारसी बाबू, कृष्णा गुप्ता, मुन्ना पटेल, चंदेश्वर यादव, मनीष, पंकज, शैलेंद्र, टिकू, धनजी, संतोष, अरविद, शनि, मनारथ, नंदलाल आदि सहित गांव के सैकड़ों लोगों ने हिस्सा लिया। गांव में चलाया सफाई अभियान

गांव के युवाओं ने हवन यज्ञ से पूर्व सफाई अभियान भी चलाया। इस दौरान सार्वजनिक स्थानों सहित सड़कों की भी साफ-सफाई की गई। इसके अलावा घर-घर के लोगों को सफाई के प्रति जागरूक किया गया। युवाओं की इस पहल को गांव के लोगों ने भी सराहा। उनका मानना है कि कोरोना के भय वाले माहौल में इस तरह के आयोजन से हम गांवों की आबोहवा को ठीक कर सकते हैं। इस दौरान युवाओं ने अपने गांव के लिए स्लोगन जारी किया लड़ेंगे-जीतेंगे, कोरोना का हराएंगे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस