बलिया, जेएनएन। कोरोना संक्रमण काल में लोग पैसा बचाने की खातिर तमाम जतन कर रहे हैं, ऐसे में अगर आपके बैंक खाता में 99 लाख रुपया आ जाए तो दहशत स्वाभाविक है। ऐसा ही मामला बलिया की एक युवती के साथ हुआ है। बांसडीह थाना क्षेत्र की इंडियन बैंक की शाखा में एक युवती के खाता में 99 लाख रुपया आने से उसका परिवार दहशत के साथ-साथ हैरानी में है।

बांसडीह के रुकुनपुरा में 16 वर्ष की युवती के पिता अहमदाबाद में एक गैराज में काम करते हैं। 21 सितंबर (सोमवार) को उसके खाता में 99 लाख रुपया रुपया आने पर परिवार के लोगों ने पुलिस को सूचना दी है। जिसके बाद से साइबर सेल को पड़ताल करने के काम में लगाया गया है। उधर घर में बैठे ही बड़ी रकम खाता में आने के कारण 16 वर्षीय युवती के घर के लोग दहशत में हैं।

रुकुनपुरा गांव की रहने वाली किशोरी सरोज का इंडियन बैंक (पहले इलाहाबाद बैंक) की बांसडीह शाखा में खाता है। सोमवार शाम उसके मोबाइल फोन पर उसके खाते में 99 लाख रुपये जमा होने की जानकारी मिली। इसके बाद तो परिवार हैरानी के साथ ही दहशत से भर गया। सरोज ने तत्काल ही मां के साथ बैंक का रुख किया। वह बैंक में पहुंची और खाते में जमा रकम की जानकारी ली तो बताया गया कि 99 लाख चार हजार 736 रुपये है। कर्मचारियों ने बताया कि खाते के लेन-देन पर रोक लगा दी गई है। खाता में 99 लाख रुपये की बात सुनते ही किशोरी के होश उड़ गये।

कानपुर देहात के निलेश ने पीएम आवास दिलाने के नाम पर आधार कार्ड व फोटो मांगा

पुलिस को दी गयी तहरीर में सरोज ने बताया कि वर्ष 2018 से ही उसका खाता संचालित है। दो वर्ष पहले ही कानपुर देहात जनपद के ग्राम पाकरा, पोस्ट बाधीर से निलेश नाम के व्यक्ति ने सरोज को फोन कर पीएम आवास दिलाने के नाम पर आधार कार्ड व फोटो आदि मांगा। सरोज ने आधार की फोटोकाॉपी व अन्य कागजात उसके बताए पते पर भेज दिया। इसके बाद में सरोज के नाम से डाक से एटीएम कार्ड आया। उसे भी कानपुर के निलेश ने मांगा तो सरोज ने पते पर रजिस्ट्री कर दिया है। इसके साथ सरोज ने एटीएम का पिन भी बता दिया।

प्रभारी निरीक्षक बांसडीह, राजेश कुमार सिंह ने बताया कि युवती के खाता में 99 लाख रुपये आने की पूरी जांच पुलिस करेगी। उन्होंने कहा कि बैंक के साथ हम इस प्रकरण में पूरा सहयोग करेंगे। दोषियों पर कार्रवाई सुनिश्चित करायी जाएगी।

सिर्फ हस्ताक्षर ही बना पाती है सरोज

रुकुनपुरा की 16 वर्षीय सरोज के पिता अहमदाबाद में किसी गैराज में काम करते हैं। मां देवान्ती के साथ कोतवाली आयी सरोज ने बताया कि वह पढ़ाई नहीं करती है तथा कभी स्कूल भी नहीं गयी है। वह सिर्फ अपना हस्ताक्षर बना पाती है। अपने हस्ताक्षर से ही बैंक में खाता खोली थी। अचानक ही खाते में 99 लाख रुपये आने से सरोज और उसके परिवार के लोग काफी डरे-सहमे हैं। 

बैंक कर्मचारियों ने कहा-हमारा कोई मतलब नहीं

बैंक कर्मचारियों के अनुसार, बैंक के खाते से कई बार रुपये का लेन-देन किया गया है। सरोज ने बताया कि उसे कुछ मालूम नहीं है कि रुपये कहां से आए है और इससे हमारा कोई मतलब नहीं है। सरोज ने तहरीर में अपना बैंक खाता नम्बर व अन्य डिटेल बैंक व पुलिस को देकर जांच कर कार्रवाई की मांग की है। सरोज ने बताया कि निलेश कुमार के जिस मोबाइल नम्बर से बातचीत हो रहा था, वह अब बंद बता रहा है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस