जागरण संवाददाता, बैरिया (बलिया) : स्थानीय तहसील परिसर में बुधवार की शाम अल्पसंख्यक समुदाय की एक विवाहिता को भगा ले जाने के मामले में दो पक्षों में जमकर मारपीट हुई। इस घटना में आधा दर्जन लोग घायल हो गए। इससे तहसील में भगदड़ की स्थिति उत्पन्न हो गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने लाठियां भांजकर दोनों पक्ष के लोगों को भगाया। इस मामले में पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया है।

बैरिया कस्बे में अल्पसंख्यक समुदाय की एक विवाहिता युवती को उसी समुदाय के मोनू नाम का युवक भगा ले गया था। कुछ दिन बाद उक्त विवाहिता युवती को लेकर लौटा तो विवाहिता के पिता ने अपनी बेटी को वापस दिलाने की गुहार पुलिस से लगाई। पुलिस ने आरोपित के साथ युवती के पिता को भी धारा 151 में चालान कर दिया। दोनों पक्ष के लोग जमानत कराने तहसील पर आए थे। इस सूचना पर आरोपित युवक व युवती के पिता के पक्ष के दर्जनों लोग तहसील पर आ गए और देखते ही देखते जमकर मारपीट होने लगी। तहसील में जमकर लाठी-डंडे चलने लगे और परिसर रण का मैदान बन गया।

सूचना पर बैरिया एसएचओ संजय त्रिपाठी मयफोर्स पहुंचे तथा जमकर लाठियां भांजी। इससे लोग भाग खड़े हुए। विवाहिता के पिता व उसे भगाने वाले युवक मोनू को एसडीएम ने 14 दिन के लिये जेल भेज दिया, जबकि चार अन्य लोगों को पूछताछ के लिये पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। इस मारपीट में तीन महिलाओं समेत दोनों पक्षों के आधा दर्जन लोग घायल हो गए। पुलिस तहसील में मारपीट करने वाले लोंगो की गिरफ्तारी के लिये दबिश में लगी हुई है। वहीं अधिवक्ताओं ने तहसील परिसर में मारपीट व भगदड़ की स्थिति उत्पन्न होने पर आक्रोश व्यक्त करते हुए पुलिस अधीक्षक से तहसील परिसर की सुरक्षा बढ़ाने की मांग की हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस