जागरण संवाददाता, बलिया: उत्तर प्रदेश कोषागार कर्मचारी संघ के आह्वान पर तीसरे दिन शुक्रवार को भी कोषागार कर्मचारियों ने तीन बजे से कार्य बहिष्कार कर कार्यालय गेट पर एकत्रित होकर धरना प्रदर्शन किया। संघ के अध्यक्ष अवधेश कुमार यादव ने बताया कि सरकार ने कोषागर में 33 वर्ष से लागू 80:20 की व्यवस्था समाप्त कर कोषागर कर्मचारियों का भविष्य अंधकारमय कर दिया है। 31 जुलाई 2019 के शासनसेश में सरकार 80: 20 व्यवस्था को समाप्त करने तथा सचिवालय के समान वेतन देने का झूठ गढ़ रही है। महामंत्री दिनेश कुमार शुक्ल ने कहा यह आंदोलन पूरे प्रदेश के 78 कोषागारों में एक साथ व्यापक स्तर पर चलाया जा रहा है और 16 सितम्बर को पूरे प्रदेश के कोषागार कर्मी लखनऊ जाकर निदेशालय का घेराव करेंगे। जनपद के उपाध्यक्ष फखरे आलम ने बताया कि कोषागार के इतिहास में यह पहला अवसर है, जब राज्य के पूरे 78 कोषागार एक साथ हैं। यदि 19 तक सरकार कोई सार्थक निर्णय नहीं लेती है, तो 20 से अनिश्चित कालीन हड़ताल का आह्वान किया जा सकता है। इस मौके पर अध्यक्ष अवधेश यादव, महामंत्री दिनेश शुक्ला, कोषागार के मुख्य रोकड़िया अरुण वर्मा एवम रोकड़िया रामचन्द्र, कोषाध्यक्ष अतुल तिवारी, उपाध्यक्ष फखरे आलम, धर्मनाथ गोस्वामी, उमाशंकर गुप्ता, राधामोहन गुप्ता, सुरेश प्रसाद, दिलीप कुमार, अजीत श्रीवास्तव सहित कोषागार कर्मी मोजूद थे।

गवर्मेंट पेंशनर्स वेलफेयर आर्गेनाईजेशन ,उत्तर प्रदेश,जनपद-बलिया के अध्यक्ष रामजी सिंह, जिला श्रमिक समन्यवयक समिति के अध्यक्ष अजय सिंह तथा राज्य कर्मचारी महासंघ के प्रांतीय उपाध्यक एवम महामंत्री राजेश पांडेय तथा संगठन मंत्री प्रेमसुख श्रीवास्तव ने कोषागार कर्मियों द्वारा चलाये जा रहे आंदोलन में कंधे से कंधा मिलाकर समर्थन करने का आश्वासन दिया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप