जागरण संवाददाता, बलिया : परिषदीय विद्यालयों में पंजीकृत छात्रों के लिए यूनीफार्म, स्वेटर, बैग, जूता व मोजा के वितरण की योजना में बदलाव हुआ है। अब अभिभावकों के खाते में धन भेजने की तैयारी है। डीबीटी (डिजिटल बेनिफिट ट्रांसफर) के जरिए भेजी जाने वाली धनराशि के लिए विद्यार्थियों का विवरण विद्यालय फीड करने में जुटे हैं। जिले के 76 विद्यालयों ने अभी तक डीबीटी कार्य शुरू नहीं किया है। ऐसे स्कूलों की लापरवाही से हजारों विद्यार्थी इस साल यूनीफार्म, स्वेटर, बैग, जूता व मोजा नहीं खरीद पाएंगे।

लापरवाही की कड़ी में शिक्षा क्षेत्र रसड़ा जनपद में एक नंबर पर है। यहां कुल 19 परिषदीय विद्यालयों ने डीबीटी कार्य शुरू नहीं किया। दूसरे नंबर पर सोहांव शिक्षा क्षेत्र है, 18 विद्यालयों में कार्य शुरू नहीं हुआ है। तीसरे नंबर पर हनुमानगंज शिक्षा क्षेत्र है, जहां 11 विद्यालयों में यह कार्य होना बाकी है। उत्तर प्रदेश स्कूल शिक्षा की महानिदेशक अनामिका सिंह ने सभी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारियों और खंड शिक्षा अधिकारियों को 28 अक्टूबर तक का समय दिया है। इसके बाद संबंधित विद्यालयों पर कड़े एक्शन की तैयारी है।

------------------

1.73 लाख विद्यार्थियों का आधार वेरिफाई

बेसिक शिक्षा विभाग के जिला समन्वयक प्रशिक्षण नूरूल हुदा ने बताया कि बलिया में 1.73 लाख विद्यार्थियों का अभी तक आधार वेरिफाई हुआ है। शेष के लिए कार्य चल रहे हैं। प्रथम चरण में इन विद्यार्थियों के अभिभावकों के खातों में प्रति छात्र 1056 रुपये भेजे जाएंगे। शासन की इस व्यवस्था से अब विद्यार्थी खुद से स्कूल ड्रेस बनवा सकेंगे। बलिया में परिषदीय विद्यालयों में बच्चों की संख्या 2 लाख 98 हजार हैं। प्रवेश का कार्य अभी भी जारी है। बलिया में तीन मदरसे, 91 सहायता प्राप्त इंटर कालेज और 14 राजकीय इंटर कालेजों में भी कक्षा छह से आठ तक के विद्यार्थियों को भी यह लाभ मिलना है, लेकिन विद्यालयों की ओर से विद्यार्थियों का विवरण अभी तक पोर्टल पर फीड नहीं किया गया है।

----------------------

डीबीटी कार्य नहीं करने वाले किस शिक्षा क्षेत्र में कितने विद्यालय

-04 : बांसडीह

-03 : बेरूआरबारी

-01 : दुबहड़

-01 : गड़वार

-11 : हनुमानगंज

-01 : मनियर

-05 : नगरा

-02 : नवानगर

-06 : पंदह

-19 : रसड़ा

-05 : रेवती

-18 : सोहांव

---------------

प्रति विद्यार्थी 1,056 रुपये का बजट

-600 : रुपये में दो सेट ड्रेस।

-200 : रुपये में स्वेटर।

-135 : रुपये में रुपये में जूते।

-21 : रुपये में रुपये मोजा।

-100 : रुपये में बैग।

------------------------

----वर्जन----- डीबीटी (डिजिटल बेनिफिट ट्रांसफर) के जरिए भेजी जाने वाली धनराशि के लिए विद्यार्थियों के विवरण फीड किए जा रहे हैं। शासन से सीधे अभिभावकों के खातों में प्रति विद्यार्थी 1056 रुपये भेजे जाने हैं। विद्यार्थियों का विवरण जो विद्यालय नहीं फीड कर रहे हैं, उन्हें रिमाइंडर भेजा गया है। इसके बाद भी लापरवाही सामने आती है तो संबंधितों पर कार्रवाई की जाएगी।

शिवनारायण सिंह, बीएसए

Edited By: Jagran