जागरण संवाददाता, दोकटी (बलिया): थाना क्षेत्र के लालगंज चौकी के निकट गोपालपुर गांव में चौकी इंचार्ज सुनील सिंह ने भगवान श्रीकृष्ण की प्रतिमा को पैर से मार कर हटाने और उस जमीन पर मुस्लिम समुदाय का झंडा खड़ा होकर गड़वाने तथा भूमि स्वामी 70 वर्षीय व एक युवक को निर्ममता पूर्वक पीटकर धारा 151 में चालान करने का मामला रविवार को गरमा गया। विधायक सुरेंद्र सिंह ने हस्तक्षेप के बाद प्रशासन के हाथ पांव फूलने लगे। मौके पर भारी संख्या में लोग जमा हो गए। बिगड़ते हालात को देख प्रशासन को बैकफुट पर आना पड़ा। काफी देर तक मान मनौव्वल के बाद मामला शांत हुआ और पुन: कुछ जमीन पर भगवान श्रीकृष्ण की प्रतिमा को स्थापित कर भगवा झंडा गाड़ा गया।

राजबली यादव व अन्य किसानों की जमीन के रास्ते मुस्लिम समुदाय के लोग ताजिया जुलूस कर्बला में ले जा रहे थे। उस जमीन के बगल में भगवान शंकर व हनुमान जी का मंदिर है। उसी जमीन के बगल में भगवान श्रीकृष्ण की प्रतिमा स्थापित की गई थी। आरोप है कि चौकी इंचार्ज लालगंज सुनील सिंह मुस्लिम समुदाय के लोगों के साथ जाकर अपने पैर से मारकर प्रतिमा को हटा दिया और वहीं मुस्लिम समुदाय का झंडा गड़वा दिया। साथ ही भू-स्वामी व उसके पुत्र को निर्ममता पूर्वक पीट कर धारा 151 में चालान कर दिया। इसे एसडीएम ने 14 दिनों के लिए जेल भेज दिया। विश्व हिदू परिषद व आरएसएस के लोग इसे सुलझाने के लिए लालगंज चौकी में गए तो उन्हें भी चौकी इंचार्ज भी 151 का आरोपी बना दिया। दस्तावेज देखने के बाद एसडीएम ने दिया यह निर्देश

मौके पर एसडीएम सुरेश पाल, सीओ अशोक कुमार सिंह, नायब तसीलदार रजत सिंह, लेखपाल लक्ष्मण गुप्ता के अलावा एचएसओ बैरिया संजय त्रिपाठी, दोकटी अमित सिंह भारी फोर्स के साथ पहुंच गए और विधायक का मान मनौव्वल करने लगे। पहले तो एसडीएम ने कहा कि इस जमीन पर कोई नहीं जाएगा लेकिन जब कागजात देखा गया तो संबंधित जमीन राजबली यादव आदि की निकली। इसके बाद पासा पलट गया और एसडीएम ने मुस्लिम समुदाय के लोगों को निर्देशित किया कि राजबली यादव व अन्य की जमीन पर भूस्वामी की मर्जी से ताजिया ले जा सकते हैं। अगर भूस्वामी की मर्जी नहीं होगी तो मुस्लिम समुदाय के लोग उस जमीन का उपयोग नहीं कर सकते हैं।