जागरण संवाददाता, बलिया : त्योहारों के सीजन में धनतेरस का अलग महत्व है। इस बार धनतेरस को बाजारों में बर्तन खनकने लगे हैं। इस साल पीतल व फूल के बर्तनों की अधिक डिमांड है। वैसे बर्तनों के रेट 30 प्रतिशत बढ़े हैं, इसमें पीतल के बर्तन 45 फीसद तक बढ़ गए हैं। वहीं स्टील के बर्तनों पर 20 से 25 फीसद तक वृद्धि हुई है।

इंडक्शन बर्तन भी लोगों की पंसद बने हैं। धातु की बढ़ी कीमतें व डीजल के लगातार बढ़ते दामों से ट्रांसपोर्ट का खर्च बढ़ा है। कच्चे माल में मूल्य वृद्धि के चलते ब्रांडेड कंपनियों ने एमआरपी बढ़ा दी है, इसका असर त्योहार पर पड़ रहा है। जिले में लगभग 250 कारोबारी हैं। धनतेरस पर 15 करोड़ रुपये का कारोबार करते हैं। पिछले साल कोविड-19 के चलते गिरावट आई थी।

--------------------

पीतल के रेट बढ़े

पीतल के रेट चरम पर हैं। बर्तनों की भी कीमत पहले से अधिक है। ब्रांडेड कंपनी का पांच लीटर वाला प्रेशर कूकर 1600 रुपये में मिल रहा है, वहीं 2500 से छह हजार रुपये तक मिक्सी-जूसर उपलब्ध है। पानी के छह गिलास का सेट 600 से 3000 हजार रुपये तक है।

--------------

कारोबारियों की जुबानी

पिछले साल कोरोना संकट के चलते धनतेरस पर अच्छी बिक्री नहीं हो सकी थी। बाजार में मांग बढ़ रही है। ब्रांडेड कंपनियों के ही बर्तनों की ज्यादा मांग है। -- रूपेश कुमार, कारोबारी इस बार बाजार में ब्रांडेड कंपनियों की मांग बढ़ रही है। चहल-पहल को देखते हुए इस साल अच्छी बिक्री की उम्मीद है। इस पर भी महंगाई की मार है। -- दीपक केशरी, कारोबारी अभी बाजार में सामान्य ग्राहक आ रहे हैं। अच्छी बिक्री की उम्मीद है। दीवाली पर बर्तन खरीदना शुभ माना जाता है। - छठ्ठू प्रसाद, कारोबारी

हर तरह के बर्तनों के दामों में 15 से 20 फीसद की बढ़ोत्तरी हुई है। ग्राहक खरीदारी जरूर करता है। कंपनी से ही सामान महंगा मिल रहा है। - मुन्ना जी, कारोबारी

Edited By: Jagran