जागरण संवाददाता, रसड़ा (बलिया) : वर्षों से रसड़ा में शासन द्वारा मुंसिफ न्यायालय खोलने की प्रक्रिया अब तेज हो गई है। इस दिशा में शासन व प्रशासन स्तर से कार्रवाई शुरू कर दी गई है। रसड़ा नगर के मुंसिफ तिराहे के समीप स्थित पुराने एसडीएम कोर्ट भवन में मुंसिफ न्यायालय शीघ्र खोले जाने की दिशा में बुधवार की शाम अपर सत्र न्यायाधीश हुसैन अहमद के साथ सीजीएम सुरेंद्र प्रसाद व सिविल जज सर्वे कुमार मिश्र ने उपजिलाधिकारी प्रभु दयाल, तहसीलदार रसड़ा प्रभात कुमार सिंह व प्रभारी निरीक्षक नागेश उपाध्याय के साथ एसडीएम के पुराने कार्यालय परिसर तथा पुराने मुंसिफ आवास का निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान न्यायालय की वैकल्पिक व्यवस्था, भवन निर्माण व बाउंड्री निर्माण किए जाने के संबंध में उन्होंने कई बिंदुओं पर प्रशासनिक अधिकारियों से चर्चा की तथा भवन की मरम्मत के संबंध में संबंधित विभागों के अधिकारियों से बात की। अपर सत्र न्यायाधीश ने एसडीएम कोर्ट परिसर में स्थित दुकानों, गुमटियों तथा अन्य प्रतिष्ठानों को शीघ्र खाली कराए जाने का निर्देश दिया। अंग्रेजों के शासन काल में रसड़ा में मुंसिफ न्यायालय हुआ करती थी लेकिन आजादी के बाद इसे बलिया स्थानांतरित कर दिया गया। तभी से यहां मुंसिफ न्यायालय स्थापित किए जाने की मांग विभिन्न संगठनों द्वारा की जाती रही है।

Edited By: Jagran