जागरण संवाददाता, मनियर (बलिया) : बाढ़ व कटान क्षेत्रों का दौरा करने के लिए स्वतंत्र प्रभार राज्य मंत्री स्वाति ¨सह मंगलवार को बलिया पहुंचीं। उन्होंने ग्रामीणों से रूबरू होकर उनकी समस्याओं को सुना और अगले साल बरसात शुरू होने से पहले स्थाई समाधान हर हाल में कराने का आश्वासन दिया। बाढ़ विभाग के अधिकारियों के साथ घाघरा नदी के कटान व बाढ़ प्रभावित क्षेत्र मनियर के ककरघट्टा, नवका गांव में बाढ़ राहत, महिला, परिवार, मातृ व शिशु कल्याण राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) स्वाति ¨सह मंगलवार को प्रोटोकाल के निर्धारित समय से दो घंटे पहले कटान पीड़ितों के गांव में पहुंचीं। बाढ़ पीड़ित गांव के लोग अपने गांव को बचाने की गुहार लगाते रहे। राज्यमंत्री ने अधिकारियों की ओर इशारा करते हुए कहा कि यह गांव खतरे के निशान पर चल रहा है। इसको बचाने के लिए ठोस उपाय किए जाएं।

नेता आते हैं और आश्वासन देकर चले जाते हैं..

पीड़ितों ने सवाल किया कि सांसद व ऊर्जा मंत्री भी आश्वासन देकर चले गए। कोई पहल नहीं हुई। नेता आते हैं और आश्वासन देकर चले जाते हैं। इस पर मंत्री ने मुस्करा कर कहा कि अगले बरसात आने से पहले हर हाल में स्थाई समाधान किया जाएगा। उन्होंने बाढ़ विभाग के अधिकारियों से बचाव के कार्यों की जानकारी मांगी। एक्सईएन ने पूरे जिले में 47 करोड़ का प्रोजेक्ट पास होने की बात कही। इस पर उन्होंने ककरघट्टा गांव की अलग फाइल की जानकारी चाही तो अधिकारी चुप्पी साध गए। उन्होंने तुरन्त प्रोजेक्ट बनाकर भेजने को कहा। इस मौके पर बाढ़ विभाग के इंजीनियर वीरेंद्र ¨सह, अधिशासी अभियंता बीपी ¨सह, एडीएम अशोक कुमार ¨सघल, एडिशनल एसपी विजय पाल ¨सह,सीओ बांसडीह अशोक सिह, तहसीलदार बांसडीह पंडित शीवसागर दुबे, लेखपाल राजेश कुमार, प्रधान रामाशंकर यादव, पशु डाक्टर प्रेम शंकर ¨सह आदि उपस्थित थे।

मंत्री की गाड़ी को महिलाओं ने घेरा

मनियर से बाढ़ व कटान क्षेत्र से लौट रही स्वाति ¨सह को कटान पीड़ित गांव की महिलाओं तेतरी देवी, क्रांति देवी, शकुंतला देवी, कौशल्या देवी, ज्योति देवी आदि ने मंत्री की गाड़ी को घेर लिया। कहा कि हमारे गांव को किसी भी कीमत पर बचाया जाए या कहीं अन्य जगह स्थायी रहने के लिए समाधान किया जाए। मंत्री ने महिला के दर्द को महसूस किया भरोसा दिया कि गांव को किसी भी कीमत पर बचाया जाएगा। कोई न कोई समाधान जरूर होगा।

सीएचसी को चालू कराने की मांग

कटान का दौरा कर लौट रही स्वाति ¨सह रास्ते में खड़े रिगवन गांव के लोगों से मिलीं। ग्रामीणों ने मांग किया कि एक दशक से बन चुकी सीएचसी आज तक चालू नहीं हुई। अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों से गुहार लगाई गई, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। इस पर मंत्री ने आश्वासन दिया कि इस पर अधिकारियों से वार्ता होगी।

अधिकारियों संग की बैठक

स्वाति ¨सह ने बाढ़ को लेकर स्थानीय डाकबंगले में जिला प्रशासन के साथ बैठक कर राहत कार्यों की समीक्षा की। कहा कि हर क्षेत्र में स्थिति पर नजर बनाए रखें। हर पीड़ित को राहत सामग्री मिल जाए। कटान के लिहाज से बंधों की सुरक्षा पर विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिए। बैठक में डीएम भवानी ¨सह खंगारौत, एसपी श्रीपर्णा गांगुली, एडीएम मनोज ¨सघल, बाढ़ एक्सईएन अशोक कुमार मौजूद थे। ¨रग बाध बनाने को दिया पत्रक

सहतवार : मंत्री स्वाति ¨सह ने बाढ़ से प्रभावित क्षेत्र रामपुरनम्बरी, रेगहा, कोलकला बिन्दबस्ती, चितसांव, चांदपुर पुरानी बस्ती आदि गांवों का भ्रमण कर लोगों की समस्याएं सुनीं। क्षेत्र के मोहन चौरसिया, प्रधान पंचदेव यादव, रामजी यादव, पारस यादव, हरेरामयादव, लल्लन यादव ने ¨रग बाध बनाने के लिए पत्रक दिया।

Posted By: Jagran