जागरण संवाददाता, बलिया : रेल राज्य एवं संचार राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) मनोज सिन्हा शनिवार को वाराणसी-बलिया रेल खंड पर हो रहे विद्युतीकरण, दोहरीकरण एवं अन्य विकास कार्यों का निरीक्षण स्पेशल ट्रेन से ¨वडो ट्रे¨लग के माध्यम से किया। रेल राज्य मंत्री के इस निरीक्षण को एक अप्रैल 2018 से शुरू होने वाले वाराणसी-बलिया के बीच इलेक्ट्रिक ट्रेनों के परिचालन से जोड़ कर देखा जा रहा है।

रेलवे सूत्रों के मुताबिक रेल राज्य मंत्री ने विद्युतीकरण के कार्य पर संतोष जताते हुए अपनी स्वीकृति प्रदान कर दी है। अब 31 मार्च को वाराणसी से बलिया के बीच पहली बार इलेक्ट्रिक इंजन युक्त ट्रेन को चलाकर ट्रायल किया जाएगा। तत्पश्चात एक अप्रैल से इस रेलखंड पर सवारी गाड़ी के साथ ही कुछ और इलेक्ट्रिक ट्रेनों का परिचालन आम यात्रियों के लिए शुरू कर दिया जाएगा। रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा ने अपने निरीक्षण के दौरान औड़िहार में डेमू शेड एवं ट्रैक्शन सब स्टेशन, गाजीपुर सिटी स्टेशन पर विकास कार्यों संग कई योजनाओं का लोकार्पण व शिलान्यास किया। तत्पश्चात अधिकारियों समेत निरीक्षण स्पेशल से विन्डो ट्रे¨लग करते हुए शाम करीब पांच बजे बलिया रेलवे स्टेशन पहुंचे। निरीक्षण के दौरान मेंबर ट्रैक्शन घनश्याम ¨सह, महाप्रबंधक पूर्वोत्तर रेलवे राजीव अग्रवाल, सीएमडी सतीश अग्निहोत्री, मंडल रेल प्रबंधक वाराणसी एस के झा सहित पूर्वोत्तर रेलवे, रेल विकास निगम लिमिटेड एवं उत्तर रेलवे के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे। बलिया रेलवे स्टेशन पर भाजपा नेताओं व कार्यकर्ताओं ने उनका जोरदार स्वागत किया। कार्यकर्ताओं के जोश को देखते हुए मनोज सिन्हा स्पेशन ट्रेन से कुछ मिनट के लिए प्लेटफार्म पर उतरे और चार कदम चलने के बाद फिर ट्रेन में बैठ गए। इसके बाद करीब 10 मिनट तक ट्रेन प्लेटफार्म पर खड़ी रही। इस दौरान कुछ भाजपा नेता ट्रेन के अंदर जाकर मुलाकात भी किए और फिर शाम 5.15 बजे बलिया से स्पीड ट्रायल से निरीक्षण करते हुए वापस वाराणसी के लिए रवाना हो गए। स्वागत करने वालों में सांसद भरत ¨सह, प्रदेश सरकार के मंत्री उपेंद्र तिवारी, भाजपा के प्रदेश उपाध्यक्ष दयाशंकर ¨सह, भाजपा जिलाध्यक्ष विनोद शंकर दुबे, वरिष्ठ नेता नागेंद्र पाण्डेय, राजू मोहन चौधरी, जयप्रकाश साहू, वशिष्ट दत्त पाण्डेय, रामसुमेर ठाकुर के अलावा स्टेशन अधीक्षक संजय ¨सह, स्टेशन मास्टर मनोज तिवारी, सुनिल ¨सह, आरपीएफ प्रभारी अमित कुमार राय, एसआई एसके पाण्डेय, आनंद ¨सह आदि मौजूद थे। बदला-बदला नजर आया स्टेशन

रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा के आगमन को लेकर एक दिन पहले से युद्ध स्तर पर तैयारियां चल रही थीं। स्टेशन परिसर से लेकर प्लेटफार्म व रेलवे ट्रैक तक को स्थानीय रेलवे अधिकारियों ने चमका दिया था। हालांकि रेल राज्य मंत्री के प्लेटफार्म से ही वापस हो जाने से रेलवे के अधिकारियों ने राहत की सांस ली। प्लेटफार्म नंबर दो पर जानते तो खुल जाती पोल

रेल मंत्री के स्वागत को लेकर जहां एक नंबर प्लेटफार्म को दुल्हन की तरह सजाया व संवारा गया था। रेलवे ट्रैक तक पर चूने का छिड़कांव किया गया था। वहीं, प्लेटफार्म नंबर दो पर कई जगह गंदगी देखी गई। ऐसे में अगर रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा प्लेटफार्म नंबर दो पर चले जाते तो सारा भेद ही खुल जाता।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस