जागरण संवाददाता, बलिया : प्रदेश सरकार की राज्य मंत्री स्वाति ¨सह बुधवार की सुबह अचानक मंडी समिति पहुंचीं और निरीक्षण किया। इस दौरान वहां दु‌र्व्यवस्था देख मंत्री ने आजमगढ़ से आए उप निदेशक अमिताभ शुक्ला व मंडी सचिव को कड़ी डांट लगाई। मंडी समिति परिसर में जलजमाव से दुर्गंध आ रही थी। गंदगी का अंबार लगा था। पिछले साल मंडी में निरीक्षण के दौरान दिए निर्देशों का अनुपालन नहीं होने पर नाराज मंत्री ने दोनों अधिकारियों की जमकर क्लास लगाई।

निरीक्षण के दौरान कृषि उत्पादन मंडी समिति का प्रपत्र छह ठीक ढंग से मेंटेन नहीं था। इस पर मंडी सचिव समेत कर्मचारी को डांट लगाते हुए घालमेल पकड़ में आने पर जेल भेजने की चेतावनी दी। दरअसल, छह महीने पुरानी रसीद बुक एकदम नई दिखने पर मंत्री ने गड़बड़ी की आशंका जताई और कड़ाई से पूछताछ की। जलजमाव, साफ सफाई की खराब स्थिति व दुर्गंध आने पर नाराजगी जताई। मंडी के अंदर वाहनों के प्रवेश शुल्क और गेटपास की भी जांच की।

कई कमियां मिलने पर नाराज मंत्री ने मंडी के मण्डल के उपनिदेशक अमिताभ शुक्ला को चेतावनी देते हुए कहा कि सिर्फ बैठकें नहीं करें, बल्कि मंडियों का निरीक्षण कर हालात का जायजा लेते रहें। स्थिति बहुत खराब है इसमें सुधार लाएं। ऐसा नहीं कर सकते हैं तो फिर सेवानिवृत्ति लेकर घर बैठ जाएं।

अतिक्रमण हटाने को 15 दिन का अल्टीमेटम

मंडी समिति में निरीक्षण के दौरान परिसर में अवैध अतिक्रमण देख मंत्री स्वाति ¨सह नाराज हो गईं। इस बाबत सवाल किया तो उपनिदेशक व मंडी सचिव कोई जवाब नहीं दे सके। दोनों अधिकारियों को मंत्री ने चेतावनी दी कि अगले 15 दिन के अंदर अगर अतिक्रमण नहीं हटा तो दोनों अधिकारी निलंबित होंगे। पिछले वर्ष निरीक्षण के दौरान इस अतिक्रमण को हटाने के निर्देश के बावजूद अब तक कोई कार्रवाई नहीं होने पर मंडी सचिव को ही कटघरे में खड़ा किया। पिछले वर्ष जो स्थिति थी, वही स्थिति आज भी जस की तस है।

Posted By: Jagran