जागरण संवाददाता, रसड़ा (बलिया) : माह-ए-रमजान के अंतिम चरण में शनिवार को शिया जामा मस्जिद के तत्वावधान में सेकेट्ररी मुजतबा हुसैन के आवास पर रोजा इफ्तार का आयोजन किया गया। इसमें सुन्नी जमात के लोगों ने शिरकत कर आपसी भाईचारा की मिशाल पेश की।

इस आयोजन से कौमी एकता की मजबूती भी दिखी। इसके पूर्व सै. मुजतबा हुसैन व अशद अली ने रोजेदारों को गले लगाकर रमजान का मुबारक बाद दिया। अजान की सजाएं सुनते ही लोगों ने खजूर व पानी से रोजा खोला। सै. मुजतबा हुसैन ने अपने हाथों स्वयं रोजेदारों को इफ्तार परोसा। सुन्नी जमात के रोजा खोलने के पश्चात कुछ ही मिनटों के अंतराल में शिया समुदाय के लोगों ने भी रोजा खोला।

गौरतलब है कि रसड़ा व आस-पास के क्षेत्रों में सदियों से शिया व सुन्नी समुदाय मिल-जुल कर एक दूसरे के सुख-दुख में भागीदार होते रहे हैं। रोजा इफ्तार में दोनों समुदाय ने शिरकत कर परस्पर भाईचारा, प्रेम तथा सछ्वावना को मजबूत करते हुए गंगा-जमुनी तहजीब को पुष्ट करते आए हैं। इस मौके पर डा. तारिख, अबुल हसन, सै. अहमद, शमीम अंसारी, एकलाख अहमद, प्रख्यात शायर शौकत वाजिदी आदि मौजूद थे।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस