जागरण संवाददाता दोकटी (बलिया): स्वच्छ भारत मिशन अभियान के तहत दो अक्टूबर से पूर्व प्रदेश को ओडीएफ घोषित करने में सरकारी अमला हर अस्त्र अपना रहा है। वहीं दूसरी तरफ ग्रामीण क्षेत्रों में इसके लिए अनेक प्रकार के कार्यक्रम आयोजित किए जा रहे हैं। वहीं जिन गांवों में ओडीएफ करने का कार्य चल रहा है, एमआईएस के आधार पर चयनित पात्रों को शौचालय का चेक भी वितरित किया जा रहा है। रविवार को ग्राम पंचायत सुकरौली में द्वितीय किश्त का चेक लगभग दो दर्जन पात्रों को ग्राम प्रधान दीना नाथ निषाद व ग्राम पंचायत अधिकारी सुनील कुमार श्रीवास्तव ने वितरित किया। वहीं पात्रों को सख्त हिदायत दी कि दो दिनों के अंदर शौचालय संबंधी सभी कार्य पूरे हो जाने चाहिए। उसमें किसी भी प्रकार की हीलाहवाली करने वाले के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। वहीं दूसरी तरफ ग्राम पंचायत लक्ष्मीपुर में ग्राम प्रधान चुनमुन कुमार व सचिव दिग्विजय ¨सह ने बैठक कर 30 स्वेच्छाग्राही प्रेरकों के समूह को चयनित कर उन्हें रिफ्लेक्टिव जैकेट, टोपी, सीटी इत्यादि सामग्री उपलब्ध कराया गया। वहीं घर-घर जाकर लोगों को शौचालय बनवाने व स्वच्छ रखने का टिप्स दिए गए। स्वेच्छाग्राहियों में आठ से 10 वर्ष से 10 बालक, 10 महिलाएं व 10 पुरुष को चयनित किया गया। जो खुले में शौच करने से सीटी बजाकर व समझा बुझाकर मना करेंगे।

चेक क्लीयर कराने में लग रहा है एक पखवारा

स्वच्छ भारत मिशन के तहत पात्रों को 12 हजार रुपये का मिलने वाला अनुदान दो किश्तों में चेक के माध्यम से उपलब्ध कराया जा रहा है। इन चेकों को क्लीयर कराने में पात्रों को 15 से 20 दिनों का समय लग जाता है। इससे शौचालय का निर्माण कार्य पूरे होने में डेढ़ से दो माह का समय लग जाता है। क्षेत्रीय लोगों का कहना है कि अगर अनुदान राशि पात्रों के खाते में सीधे भेज दिया जाय तो यह कार्य तत्काल पूरा हो जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस