जासं, रेवती (बलिया) : काम बंद होने से परेशान नगर में बाहर से आए गोलगप्पा बेचने वाले दिहाड़ी दुकानदारों ने स्थानीय थाना के एसएचओ शैलेश सिंह से शुक्रवार को थाना पहुंचकर काम बंद होने का हवाला देते हुए भोजन की गुहार लगाई। थानाध्यक्ष की पहल पर नगर पंचायत के अध्यक्ष प्रतिनिधि कनक पांडेय द्वारा एक दर्जन इन दुकानदारों को 800 रुपये प्रतिदिन भोजन के लिए अपने स्तर से सुनिश्चित कराया गया। थानाध्यक्ष के अनुरोध पर मकान मालिक दिल्लू तिवारी द्वारा दरियादिली दिखाते हुए एक महीने का किराया छोड़ दिया गया।

प्रदेश के झांसी जिले के समथर गांव निवासी सुंदर, दीपक, रामप्रकाश, आनंद, जीतन, नंदन, मुन्नी आदि एक दर्जन परिवार नगर में फेरी लगाकर ठेला गाड़ी से गोलगप्पा बेचने का काम करते हैं। इसमें सुंदर, दीपक व राम प्रकाश की पत्नियां व बच्चे भी साथ रहते हैं। लॉकडाउन के चलते इनका धंधा ठप हो गया। बाहरी होने से परेशान अंतत: इन लोगों को थानाध्यक्ष से भोजन के लिए गुहार लगानी पड़ी। लॉकडाउन में बाजार बंद होने से स्थानीय बस स्टैंड पर लगातार ड्यूटी दे रहे पुलिसकर्मियों को समाजसेवी कलयुगी पांडेय द्वारा चाय-पानी की व्यवस्था की गई।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस