जागरण संवाददाता, बलिया : जिलाधिकारी भवानी ¨सह ¨सह खगारौत ने बैरिया तहसील क्षेत्र में सुघरछपरा व केहरपुर में नाव पर बैठकर किनारे से कटान का जायजा लिया। एहतियात के तौर पर वहां एनडीआरएफ की टुकड़ी तैनात कर दी गई है। उन्होंने बाढ़ के पानी से घिरे परिवारों को तत्काल राहत पहुंचाने का निर्देश स्थानीय प्रशासन को दिया। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि राहत कार्य के लिए हमेशा अलर्ट मोड में रहे। महज कुछ दिनों की आपदा है। इसमें सहयोग की भावना से बाढ़ पीड़ितों को हरसंभव राहत पहुंचाने का काम करें। सुघर छपरा व केहरपुर में राहत सामग्री तत्काल वितरण कराने का निर्देश एसडीएम और तहसीलदार को दिया। यह भी कहा कि प्रति परिवार पांच लीटर मिट्टी का तेल शीघ्र दे दिया जाए। स्वास्थ्य विभाग की टीम को जरूरी दवाओं के वितरण के साथ क्षेत्र में छिड़काव भी करने को कहा। इस मौके पर एसडीएम लालबाबू दूबे, तहसीलदार गुलाब चंद्रा चंद्रा आदि साथ थे।

--मंदिर पर पड़ रहा घाघरा का दबाव

जासं, सिकंदरपुर (बलिया) : स्थानीय तहसील क्षेत्र के बनखंडी नाथ मंदिर डुंहा और जंगली बाबा मंदिर कठौड़ा पर घाघरा की लहरें मंदिर से सटकर बह रही हैं। घाघरा नदी के पानी का दबाव इन मंदिरों पर लगातार पड़ रहा है बावजूद इसके विभाग मौन साधे हुए है। कठौड़ा गांव निवासी सोनू राय ने बताया कि पानी के दबाव से मंदिर को काफी नुकसान हो रहा है, लेकिन प्रशासन की तरफ से इस पर कोई बचाव कार्य नही किया जा रहा है।

Posted By: Jagran