हाल जिला जेल का फोटो-1--

-दस बैरक में किसी तरह से रखे जाते कैदी, बंदी रक्षकों की कमी से दिक्कत

-छात्र नेताओं के आरोपों की हो रही जांच, व्यवस्था को लेकर होती किचकिच जेल की स्थिति

बैरक-10

क्षमता-339

कैदी--850

------------------------

सुधीर तिवारी

-----------

बलिया: जिला कारागार की व्यवस्था पटरी पर नहीं आ पा रही है। इसका मुख्य कारण अत्याधिक बंदियों का होना है। इसके चलते आए दिन बंदी रक्षकों व बंदियों के बीच किचकिच होती है। अंग्रेजों के जमाने में वर्ष 1917 में बनी इस जेल की क्षमता मात्र 339 कैदियों की है। आजादी की लड़ाई के दौरान अंदोलनकारी भी इसी जेल में बंद थे। आजादी के बाद सबकुछ बदला, लेकिन जेल की दशा अभी तक नहीं बदली। पुराने जमाने की इस जेल की बाउंड्री को एक दशक पूर्व ऊंचा किया गया। इस जेल में मात्र दस बैरक हैं। इसमें वर्तमान समय में 850 बंदी हैं। यह कैसे रह रहे हैं इसका अंदाजा इनकी संख्या से लगाया जा सकता है। इसमें हर तरह के बदमाश भी बंद हैं। इससे जेल प्रशासन को तालमेल बैठाने में कई तरह के दिक्कतों का सामाना करना पड़ता है। जेल की क्षमता को बढ़ाने के लिए कई बार प्रयास किया गया, लेकिन इस दिशा अभी तक कोई सार्थक प्रयास नहीं हो सका। इसके चलते बंदी रक्षकों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। इस जेल में महिलाओं के लिए भी एक बैरक है। जिसमें महिला बंदियों को रखा जाता है। बंदी रक्षकों की भी कमी

जिला जेल में बंदियों की संख्या लगातार बढ़ रही है, वहीं बंदी रक्षकों की संख्या कम होती जा रही हैं। नियमानुसार 20 बंदी पर एक बंदी रक्षक होना चाहिए। वर्तमान स्थित काफी सोचने को मजबूर कर दे रहा है। हालत यह है कि 300 बंदी पर एक बंदी रक्षक है। ऐसे में जेल के अंदर की व्यवस्था बनाने में जेल प्रशासन को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है।

--------वर्जन------------

जेल में बंदियों को सुरक्षित रखना हम सबकी जिम्मेदारी है। इसको लेकर हम सभी काफी सतर्क रहते हैं। जेल में अधिक बंदियों की होने की जानकारी मुख्यालय को दी जाती है। शासन स्तर पर इस दिशा में योजना बनाई जा रही है।

प्रशांत मौर्या, जेल अधीक्षक, जिला कारागार, बलिया।

----

जिला कारागार में 339 कैदी की क्षमता है।

लेकिन इस समय 850 कैदी बन्द है। क्षमता से अधिक बन्दी होने के कारण आए दिन बन्दी रक्षकों व बन्दीयो के बीच नोकनोझक चलती रहती है। इस समय एक जवान पर 300 से 350 कैदियों के लोड है। एक जवान पर 20 कैदी का लोड होना चाहिए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस