जागरण संवाददाता, बलिया : हिन्दू धर्म के अनुसार भगवान विश्वकर्मा निर्माण एवं सृजन के देवता कहे जाते हैं। माना जाता है कि भगवान विश्वकर्मा ने ही इन्द्रपुरी, द्वारिका, हस्तिनापुर, स्वर्ग लोक, लंका आदि का निर्माण किया था। इस दिन विशेष रुप से औजार, मशीन तथा सभी औद्योगिक कंपनियों, दुकानों आदि पूजा करने का विधान है। भाद्रपद माह में विश्वकर्मा पूजा 17 सितंबर, 2018 को मनाने की परंपरा रही है। नगर से सटे बसंतपुर में शिव मंदिर के पास आदर्श मजदूर सेवा समिति की ओर से भब्य तैयारी की जा रही है। समिति के अध्यक्ष सुरेंद्र प्रसाद व अनुज शर्मा, वृजा प्रसाद, रामनाथ प्रसाद, सुनिल कन्हैया प्रसाद आदि ने संयुक्त रुप से बताया कि यहां आयोजित कार्यक्रम में भगवान विश्वकर्मा की मूर्ति स्थापित कर पूजन के कार्यक्रम के उपरांत 19 सितम्बर को झारखंड के शिवशंकर यादव व बिहार के रामाशंकर यादव के बीच गवनई का कार्यक्रम भी रखा गया है। इस पूजा में कई गणमान्य लोग भी पधारेंगे। पंडाल की तैयारी अंतिम चरण में है। इसके अलावा नगर के नलकूप विभाग, आईटीआई, रामपुर, सहित दर्जनों स्थानों पर तैयारियां चल रही हैं।

Posted By: Jagran