लवकुश सिंह, बलिया

केंद्रीय सड़क व परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने जिले को ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस वे की सौगात दी है। इसका 118 किलोमीटर लंबा दायरा होगा। गाजीपुर से मांझी तक बनेगा। छपरा (बिहार) के रिविलगंज बाईपास से जुड़ेगा। रिविलगंज में 200 करोड़ से सात किलोमीटर लंबा बाईपास बनाने का कार्य जल्द शुरू होने जा रहा है। मांझी में जयप्रभा सेतु से अलग एक पुल का निर्माण सरयू नदी में किया जाएगा। एनएचएआइ के अफसरों की मानें तो प्रोजेक्ट पर पांच हजार करोड़ रुपये खर्च होंगे। बजट आवंटित कर दिया गया है। गाजीपुर से बलिया तक कुल चार तहसीलों से होकर यह गुजरेगा। इसमें गाजीपुर सदर, मुहम्मदाबाद (मऊ), बलिया के सदर व बैरिया तहसील और बिहार के छपरा का रिविलगंज प्रखंड शामिल हैं। दिसंबर से काम शुरू करने की तैयारी है। वर्ष 2025 तक इसे शत-प्रतिशत पूरा करने का लक्ष्य है। दोनों तरफ पेड़-पौधों की हरियाली होगी, जिससे पर्यावरण संरक्षण को बल मिलेगा। ये हैं एक्सप्रेस-वे के प्रस्तावित रूट

एनएचएआइ के तकनीकी प्रबंधक योगेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि वाराणसी से गोरखपुर जाने वाले एनएच-24 के पास गाजीपुर के जंगीपुर से यह एक्सप्रेस-वे शुरू होगा। वहां से मुहम्मदाबाद होते हुए बलिया में माल्देपुर, जनाड़ी, तथा बलिया सदर के दक्षिणी छोर से निकलेगा। सोनवानी होते हुए टेंगरही बिड़ला बंधे से बाईपास मठ योगेंद्र गिरी, मांझी होते हुए बिहार के रिविलगंज बाईपास में मिलेगा। इसके बनने से पूर्वांचल का उद्धार तो होगा ही, गाजीपुर, बलिया, बिहार के छपरा आदि जिलों में विकास के नए द्वार खुलेंगे। जंगीपुर से यह 14 किमी आगे बढ़ने पर पूर्वाचल एक्सप्रेस वे को क्रास करेगा। पूर्वाचल एक्सप्रेस वे से इसे लिक किया जाएगा। 'एक्सप्रेस-वे के लिए जुलाई से अक्टूबर तक भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया चलेगी। सर्किल रेट के शहरी क्षेत्र में चार गुना व ग्रामीण क्षेत्र में दो गुना मूल्य पर मुआवजा दिया जाएगा। सितंबर तक निविदा आमंत्रित की जाएगी। दिसंबर से कार्य प्रारंभ होगा।'

- पंकज पवार, परियोजना प्रबंधक, एनएचएआइ, आजमगढ़

Edited By: Jagran