जागरण संवाददाता, सिकन्दरपुर (बलिया) : उतर प्रदेश लेखपाल संघ के आह्वान पर आठ सूत्रीय मांगों को लेकर मंगलवार को लेखपालों ने कार्य बहिष्कार किया।

तहसील के लेखपालों ने तहसील गेट पर एक दिवसीय धरने पर बैठे। इस दौरान सरकार पर वादाखिलाफी का आरोप लगाया गया।

धरनास्थल पर आयोजित सभा को सम्बोधित करते हुए तहसील अध्यक्ष विजेंदर राय ने कहा कि सरकार बार- बार झूठा आश्वासन देकर वादाखिलाफी कर रही है। लेखपालों के साथ हो रहे विसंगतियों को दूर नहीं किया जा रहा है। इससे लेखपाल अपने को कुंठित महसूस कर रहें हैं। वक्ताओं ने कहा कि आज भी अन्य कर्मचारियों की तरह लेखपालों को सभी सुविधाएं नहीं दी जा रही हैं। संघ की मुख्य मांगो में एसीपी विसंगति को दूर करना, वेतन विसंगतियों को दूर करना, वेतन भत्तों में वृद्धि सहित 8 सूत्रीय मांगे शामिल हैं। जब तक सरकार मांग नहीं मानेगी तब तक दैनिक कार्य से विरत रहेंगे। कहा कि जब तक सरकार हमारी मांगों पर विचार करते हुए शासनादेश नही जारी करेगी। तब तक पूरे तहसील के लेखपाल आय, जाति, निवास प्रमाणपत्र जारी नहीं करेंगे। आईजीआरएस व तहसील दिवस का कोई कार्य भी नही करेंगे।

धरने में पतरु राम, चंद्रिका प्रसाद, लक्ष्मीकांत यादव, अभय उपाध्याय, विनय यादव, अखिलेश यादव, रजनीश कुमार, कौशल सिंह, राणा सिंह, प्रदीप कुमार, प्रवीण मौर्य, धर्मेद्र यादव, पवन पांडेय आदि ने भाग लिया। अध्यक्षता विनय कुमार सिंह व संचालन रविंद्र यादव ने किया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस