बलिया (जेएनएन)। बैरिया के भाजपा विधायक सुरेंद्र सिंह ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है। मुन्ना बजरंगी हत्या कांड में उन्होंने सुनील राठी में भगवान का रूप देखा है। उनका कहना है कि अत्याचार का अंत तो होना ही था। हर अत्याचारी का अंत होता है। राठी ने इस मामले में भगवान की भूमिका अदा की है। इस तरह का बयान देकर सुरेंद्र सिंह ने शीर्ष नेताओं को भी मुसीबत में डाल दिया है। कहा कि जेल के अधिकारी बिके हुए थे। तभी जेल के अंदर हथियार गया और पूर्व नियोजित प्लान के तहत राठी ने हत्या की है। यह एक ईश्व्रीय देन है। ईश्वर की कृपा से ही राठी के मन में हत्या की प्रेरणा जगी और एक बड़े अपराधी का अंत हुआ। 

विधायक सुरेंद्र सिंह ने अपनी बात के पक्ष में तर्क देते हुए कहा, 'मुन्ना बजरंगी मारा गया, इसे ईश्वरीय व्यवस्था ही मानिए। संविधान (कानून) के तहत भले ही इसमें देर हो रही थी, लेकिन ईश्वर ने ऐसा करने के लिए किसी को प्रेरित कर दिया। उन्होंने कहा कि इस घटना से यह प्रामाणित हो गया कि जो जैसा करेगा, उसको उसका फल भी भुगतना पड़ेगा। सृष्टि का संचालन करने वाला अपने हिसाब से सृष्टि चलाता है। वह (सृष्टि संचालक) जिसको दंड दिलवाना चाहता है, जिस तरीके से दिलवाना चाहता है, वह दंड दिलवाता है।’

बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह ने कहा कि मुन्ना बजरंगी का जीवन ब्यूरोक्रेसी के भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गया। पैसे के बल पर जेल में क्या नहीं हो जाता? जेल में पैसे के बल पर सब कुछ संभव है। पैसा देकर जेल में असलहा लाया गया होगा। बागपत जेल के कर्मी बिके हुए थे। जेल कर्मियों के भ्रष्‍टाचार के कारण ही असलहा सुनील राठी तक पहुंचा होगा।

बीजेपी विधायक ने मुन्ना बजरंगी की पत्नी के योगी सरकार पर लगाए गए आरोपों को भी सिरे से खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि उनके परिवार को इस तरह के आरोप लगाने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है।

By Ashish Mishra