जागरण संवाददाता, बलिया : जिले में बिजली बिल वसूली में विभाग हर माह पीछे है। इसमें सुधार के लिए अब समूह की महिलाओं पर भरोसा दिखाया जा रहा है। घर-घर जाकर बिल की वसूली के लिए समूह की महिलाएं (बिजली सखी) रफ्तार देंगी। वैसे हनुमानगंज ब्लाक की महिलाओं ने अगस्त में 450 उपभोक्ताओं से 4.50 लाख रुपये की वसूली की है। इसे देखते हुए विभाग ने 17 ब्लाकों में 115 महिलाओं को जिम्मेदारी सौंपी है। कार्यशाला में इन्हें विधिवत वसूली के संदर्भ में विभाग की तरफ से विस्तार पूर्वक बताया भी गया। हनुमानगंज में हुई बेहतर वसूली का उदाहरण प्रस्तुत किया गया। बिजली सखी को विभाग बिल उपलब्ध कराएगा। इसके बाद वह घर-घर जाकर बिल वसूली करेंगी। इसके बदले विभाग उन्हें कमीशन भी देगा। विभाग का पूरा जोर ग्रामीण क्षेत्र में बिल वसूली पर है। इससे समूह की महिलाओं की आर्थिक स्थिति भी बेहतर होगी।

----

इतना मिलेगा कमीशन

- ग्रामीण क्षेत्र-2000 रुपये तक 20 रुपये प्रति बिल, इससे ऊपर वसूली पर एक प्रतिशत

- शहर--3000 रुपये तक तक 16 रुपये प्रति बिल, इसके ऊपर के बिल पर .04 प्रतिशत

---

70 करोड़ के सापेक्ष हुई थी 12 करोड़ की वसूली

बिजली विभाग की वसूली लचर व्यवस्था के चलते अगस्त में राजस्व काफी कम आया था। 70 करोड़ बिल के सापेक्ष मात्र 12 करोड़ का राजस्व आया। विभाग वसूली सुधार के लिए इसी माह सभी उपकेंद्रों पर कैंप लगाया जा रहा है, वहीं बकाया वसूली को लेकर अभियान चलाकर कार्रवाई की जा रही है।

------

बिल वसूली के लिए समूह की महिलाओं को जोड़ा गया है। इसके लिए उन्हें विस्तृत जानकारी दे दी गई है। हनुमानगंज ब्लाक में पिछले माह में अच्छे परिणाम आए थे। इसके बाद 17 ब्लाकों में इन्हें जिम्मेदारी दी गई हैं। विभाग का ग्रामीण क्षेत्रों में वसूली सुधार पर जोर है।

-चंद्रेश उपाध्याय, अधिशासी अभियंता, विद्युत वितरण खंड द्वितीय।

Edited By: Jagran