जागरण संवाददाता, बलिया: परिषदीय विद्यालयों में शिक्षकों, शिक्षामित्रों और अनुदेशकों को कौन कहे, प्रधानाध्यापकों की लापरवाही कभी कम होने का नाम नहीं ले रही है। प्ररेणा पोर्टल से आनलाइन निरीक्षण में जनपद के 174 हेडमास्टर, शिक्षक, शिक्षा मित्र, अनुदेशक और परिचारक गायब मिले हैं। सबका एक दिन का वेतन काटने का निर्देश बीएसए ने दिया है। एक सप्ताह में जवाब तलब भी किया गया है। 

महानिदेशक स्कूल शिक्षा एवं राज्य परियोजना निदेशक कार्यालय समग्र शिक्षा विद्या भवन निशातगंज लखनऊ की ओर से अगस्त में आनलाइन निरीक्षण यह निर्देश दिए गए थे। उसके बाद से ही यह जांच गतिशील है। सितंबर माह में भी जनपद में 104 प्रधानाध्यापक, शिक्षक, शिक्षा मित्र व अनुदेशक आदि अनुपस्थित पाए गए थे। विभागीय अधिकारियों की चेतावनी के बाद भी उनकी कार्यशैली में सुधार होता नहीं दिख रहा है।

नवंबर के निरीक्षण में मिले अनुपस्थित

इस माह के आनलाइन निरीक्षण में 174 में 17 प्रधानाध्यापक, 85 सहायक अध्यापक, 41 शिक्षा मित्र और 31 अनुदेशक और परिचारक अनुपस्थित होने के साथ कार्य के प्रति लापरवाह पाए गए हैं।

सितंबर की जांच में मिले थे अनुपस्थित

सितंबर के आनलाइन निरीक्षण में 104 में 09 हेडमास्टर, 48 सहायक अध्यापक, , 34 शिक्षामित्र, 11 अनुदेशक व 2 परिचारक शामिल अनुपस्थित मिले थे। सभी का एक दिन का वेतन काटा गया। नोटिस के जवाब में अलग कारण बताकर आगे की कार्रवाई से बच गए।

कर्तव्य के प्रति लापरवाह शिक्षकों पर लेंगे एक्शन

बीएसए बीएसए मनिराम सिंह ने कहा कि लापरवाह शिक्षकों को कड़ा एक्शन लिया जाएगा। हेडमास्टर, शिक्षक, शिक्षा मित्र या अनुदशकों का यह आचरण अनुशासनहीनता, उच्चाधिकारियों के आदेशों की अवहेलना तथा सौंपे गए कार्यों एवं दायित्वों के निर्वहन में की गई घोर लापरवाही को प्रदर्शित करता है। 

इस तरह की कार्यशैली से विभागीय छवि धूमिल हो रही है। यह निरीक्षण हमेशा चलता रहेगा। विद्यालय में विलंब से पहुंचने वाले शिक्षक अपनी आदत सुधार लें, बार-बार ऐसी गलती होने पर संबंधित के विरुद्ध विभागीय नियमों के तहत कठोर अनुशासनात्मक कार्रवाई की संस्तुति की जाएगी।

Edited By: Shivam Yadav

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट