बहराइच : आजादी की जंग में बहराइच जिले के बौंडी कस्बे का महान योगदान है। मौजूदा समय में समृद्धि की ओर अग्रसर है। आजादी की लड़ाई में बौंडी नरेश हरदत्त ¨सह सवाई व चहलारी नरेश बलभद्र ¨सह वीरगति को प्राप्त हुए। 1857 के गदर में जब अंग्रेजों से समूचे देशवासी आजादी के लिए बिगुल फूंक चुके थे, तो बौंडी में भी रियासतों की रणनीति तैयार की जाती थी। यहां स्थित ऐतिहासिक किले के सामने ही जवानों ने ब्रितानिया हुकूमत के खिलाफ हुंकार भरी थी। अंग्रेजों से बचकर लखनऊ की बेगम हजरत महल अपने विरजिस कदर के साथ यहीं शरण लिया था। इन पर है नाज

बौंडी नरेश हरदत्त ¨सह सवाई व चहलारी नरेश बलभद्र ¨सह के शौर्य की गाथा आज भी बौंडी के कण कण में विद्यमान है। यहां महिलाएं बच्चों को लोरी के बजाय उनकी वीर गाथाएं सुनाती हैं। लखनऊ हाईकोर्ट में गांव के रहने वाले सुरेश कालिया वरिष्ठ अधिवक्ता हैं। सदैव मजलूमों की मदद करते हैं। गांव के कौशल गुप्ता, श्यामजी तिवारी, श्याम पांडेय, रामशंकर जायसवाल जैसे प्रबुद्धजन सदैव क्षेत्र के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

यह है खूबी गुलामी की दास्तां में जकड़े ¨हदुस्तानी जब अंग्रेजों से हर प्रकार आजादी के लिए लड़ रहे थे तो उसी दौरान महात्मा गांधी भारत छोड़ो आंदोलन के अभियान में बहराइच आए थे। उनकी याद में जिले के विभिन्न गांवों में गांधी चबूतरों का निर्माण कराया गया था। यहां तिरंगा फहराया जाता है। शहीदों को श्रद्धांजलि दी जाती है। श्री जगजीतेश्वर संस्कृत उच्चतर माध्यमिक विद्यालय की स्थापना सन 1906 में हुई थी। विजयादशमी के दिन डेढ़ सौ वर्ष पुराने सात तलों वाले प्राचीन कलाकृति के राम रथ पर विराजमान होकर भगवान श्री राम रावण के पुतले का दहन करते हैं। बुजुर्गों के अनुसार राजघराने द्वारा इस रथ पर सवार भगवान राम को 11 तोपों की सलामी दी जाती थी।

मजबूत है आधारभूत ढांचा : 15 मजरों वाली ग्राम पंचायत बौंडी की कुल आबादी 9500 है। यहां कुल 5000 मतदाता है। शिक्षा के लिए गांव में तीन पूर्व माध्यमिक विद्यालय, चार प्राथमिक विद्यालय, एक माध्यमिक विद्यालय, एक उच्चतर माध्यमिक विद्यालय व एक सरस्वती शिशु मंदिर है। स्वास्थ्य व्यवस्था के लिए राजकीय होम्योपैथिक चिकित्सालय, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र व राजकीय पशु चिकित्सालय है। इलाहाबाद बैंक शाखा स्थित है। साधन सहकारी समिति है। थाना व ग्राम सचिवालय है। यहां शनिवार व मंगलवार को बाजार लगती हैं। समस्याओं पर एक नजर जर्जर तारों से विद्युत आपूर्ति, लो वोल्टेज की समस्या दो वर्षों से पानी टंकी निर्माणाधीन सड़कें खस्ताहाल, पुलिया जर्जर स्वास्थ्य केंद्र पर एएनएम का पद रिक्त बदले नजरिए ने बदली गांव की तस्वीर ग्राम प्रधान प्रतिनिधि सर्वजीत ¨सह कहते हैं कि पानी टंकी का निर्माण कार्य चल रहा है। एएनएम नियुक्ति के लिए स्वास्थ्य विभाग से पत्राचार किया जाएगा। सर्वांगीण विकास ही मेरा ध्येय है। पूर्व ग्राम प्रधान प्रतिनिधि विजय कालिया ने बताया कि बौंडी ऐतिहासिक ग्राम पंचायत है। गांव को मुख्य सड़कों से जोड़ने वाली सभी सड़कें जर्जर हैं। पुलिया क्षतिग्रस्त है जिनके शीघ्र मरम्मत की आवश्यकता है।

Posted By: Jagran