बहराइच : विधानसभा चुनाव में वोटरों को रिझाने के लिए प्रत्याशियों ने आदर्श आचार संहिता की सीमाओं का उल्लंघन किया तो सी विजिल एप के माध्यम से त्वरित कार्रवाई की जाएगी। आनलाइन शिकायत मिलते ही नजदीकी उड़न दस्ता मौके पर पहुंच जाएगा।

भारत निर्वाचन आयोग के एप को कोई भी व्यक्ति एंड्रायड मोबाइल में प्ले स्टोर में जाकर लोड कर सकता है। डाउनलोड करते ही एप सक्रिय हो जाएगा। जीपीएस लोकेशन के ट्रेस होते ही उस जगह का नजदीकी उड़न दस्ता 15 मिनट के भीतर मौके पर पहुंच कर अपेक्षित कार्रवाई करेगा। किसी मतदाता को लगता है कि उसके आस-पास या उनके क्षेत्र में आदर्श आचार संहिता के उल्लंघन जैसा कोई कार्य हुआ है तो वह अपने मोबाइल से उसी वक्त उसकी फोटो या वीडियो बनाकर एप पर डाल सकता है।

शिकायतकर्ता की पहचान को गोपनीय रखा जाएगा। इस बारे में दी गई व्यवस्था के तहत टीम लीडर को मौके से ही आयोग को यह भी बताना होगा कि शिकायत सही है या गलत। इसके लिए अधिकारी को एक ओटीपी प्राप्त होगी, जिसे अपने मोबाइल पर डालकर टीम अधिकारी अपनी रिपोर्ट आयोग को प्रेषित कर सकेंगे। जिला निर्वाचन अधिकारी डा. दिनेश चंद्र ने बताया कि कोई भी व्यक्ति इस एप का प्रयोग कर सकता है।

-----------इनसेट----------

यह हो रहा हो तो तत्काल दें सूचना

-चुनाव प्रचार के दौरान शराब, रुपये, साड़ी या वस्त्र बांटना, किसी के घर की दीवार पर बिना अनुमति के पोस्टर चिपकाना, अपने हक में मतदान के लिए किसी भी तरह का प्रलोभन या धमकी देना, प्रचार के दौरान आपत्ति जनक भाषण देना संज्ञेय अपराध कहलाएगा।

---------इनसेट----------

जीपीएस से लैस रहेंगे वाहन

-विधानसभा चुनाव में मुस्तैद किए गए उड़न दस्ते को वाहन उपलब्ध कराए गए हैं। इन मामलों को देखने वाली टीम के वाहनों को ग्राउंड पोजीशनिग सिस्टम से लैस किया गया है।

Edited By: Jagran