बहराइच : जिले में 16 अक्टूबर को मां दुर्गा प्रतिमाओं का विसर्जन होगा। अधिकारियों ने प्रतिमा विसर्जन स्थल का निरीक्षण कर व्यवस्थाएं देखी। समुचित साफ-सफाई व प्रकाश व्यवस्था के निर्देश संबंधित को दिए।

सिटी मजिस्ट्रेट अनिल कुमार सिंह, सीओ सिटी विनय कुमार द्विवेदी व नगरपालिका के अधिकारियों ने शहर के बशीरगंज स्थित झिगहाघाट का विसर्जन स्थल का निरीक्षण श्री मां दुर्गा हिदू पूजन महासमिति के पदाधिकारियों के साथ किया। सिटी मजिस्ट्रेट ने घाट पर बने गड्ढों को तत्काल भरने के निर्देश दिए। कहा कि विसर्जन वाले रास्ते को सुदृढ़ किया जाए।

महासमिति के महामंत्री सुदामा मिश्र ने बताया कि जिले के 1500 स्थानों पर दुर्गा पूजा कार्यक्रम विधिवत चल रहा है। मां दुर्गा प्रतिमाओं का विसर्जन कोविड गाइड लाइन के तहत किया जाएगा। विसर्जन शोभायात्रा व जुलूस के शक्ल में नहीं होगा। उन्होंने प्रशासन से बेहतर पुलिसिग की अपील की। इस दौरान महासमिति के रामजी शुक्ल, शिव शरण, कन्हैया सोनी व राजेंद्र गुप्त युवराज मौजूद रहे।

रिसिया : प्रतिमा विसर्जन स्थल विश्रामघाट का एसडीएम सदर सौरभ गंगवार, ईओ शैलेंद्र मिश्र, महासमिति के अध्यक्ष डा. राजू निगम, दुर्गेश चौधरी, शनि वैश्य, अरविद गौतम निरीक्षण कर व्यवस्थाएं देखी। घाट पर सफाई का काम अंतिम चरण में है। साथ प्रकाश की व्यवस्था भी देखी।

विश्राम घाट पर 25 प्रतिमाओं का होगा विसर्जन

रिसिया क्षेत्र में 60 प्रतिमाओं की स्थापना की गई। 25 प्रतिमाओं का विसर्जन विश्राम घाट पर होगा। तीन प्रतिमाओं का विसर्जन श्रावस्ती जिले के नदी में किया जाएगा। साथ ही अन्य प्रतिमाओं का विसर्जन बरुहाघाट पर होगा।

रिसिया क्षेत्र में मूर्ति विसर्जन संवेदनशील

रिसिया में मूर्ति विसर्जन संवेदनशील रहता है। अक्टूबर 2018 में गायत्री नगर में प्रतिमा स्थापना के दौरान दो समुदायों के आमने-सामने आ जाने से उपद्रव हो चुका है। इसमें पुलिस कर्मी भी उपद्रव का शिकार बने। इसमें 32 नामजद और 250 अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। उस दौरान आइजी गोरखपुर और डीआइजी को मामला संभालने आना पड़ा था।

प्रतिमा विसर्जन में शामिल न हों 11 से अधिक लोग : मूर्ति विसर्जन बारावफात एवं दशहरा के मद्देनजर गुरुवार को एएसपी ग्रामीण अशोक कुमार ने बौंडी थाना क्षेत्र के खैराबाजार में शांति समिति की बैठक की। उन्होंने कहा कि दुर्गा मूर्तियों के विसर्जन के लिए छोटे वाहन का प्रयोग होगा। प्रत्येक मूर्ति के साथ केवल 11 लोग ही रहेंगे। डीजे प्रतिबंधित है। यदि किसी ने माहौल बिगाड़ने की कोशिश की तो उसके विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जाएगी। बारावफात व दशहरे पर भाईचारे के साथ त्योहार मनाएं। सीओ महसी जेपी त्रिपाठी ने कहा कि प्रत्येक त्योहार समाज के दुखों के निवारण के लिए मनाए जाते हैं। एसओ मनोज राय ने कहा कि मूर्तियों को तय रूट से ही निकालें। कस्बे में रूटमार्च कर लोगों को शांति व्यवस्था का अहसास दिलाया। एसएसआई रघुवीर गौतम, एसआई विकास वर्मा, गोपाल तिवारी, विजय कुमार, दीपक त्रिवेदी मौजूद रहे। फखरपुर थाना परिसर में सीओ कमलेश कुमार सिहं की अध्यक्षता में शांति समिति की बैठक हुई। मुख्य अतिथि एसडीएम कैसरगंज महेश कैथल ने आपसी भाईचारा के साथ त्योहार मनाने की अपील की। सीओ ने कहा कि शासन की गाइडलाइन के अनुसार ही त्योहार मनाएं। विसर्जन में 11 लोगों से अधिक की संख्या न हो। एसओ परमानंद तिवारी, प्रमुख प्रतिनिधि रणवीर सिंह मुन्ना, पेशकार यादव, अजय शुक्ल, मंगल राठौर, सुभाष दीक्षित, रमाकांत पाठक, ललित, जनकराज सिंह मौजूद रहे।

Edited By: Jagran