संसू, बहराइच : बेटियों की सुरक्षा व महिला अपराधों पर अंकुश लगाने के लिए मिशन शक्ति को सुरक्षा कवच बनाने की तराई में पहल शुरू हो गई है। मिशन शक्ति के जरिए ऑपरेशन शक्ति को धरातल पर उतारने के लिए बेटियों को सेल्फ डिफेंस का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। ताकि हर मुश्किलों से निपटने में बेटियां स्वयं सक्षम हो सकें। सोमवार को इसी पहल पर अमल कर मेडिकल कॉलेज सभागार में महिला चिकित्सा कर्मियों को जूडो व कराटे का प्रशिक्षण दिया गया। महिला पुलिस कर्मियों व सामाजिक संगठनों ने भी आधी आबादी की सुरक्षा व सम्मान का संकल्प लिया। राजकीय मेडिकल कॉलेज सभागार महिला चिकित्सा कर्मियों के आत्मनिर्भर बनने की गवाही दे रहा था। प्रशिक्षण मिलने के लिए मिले मौके को भुनाने के लिए वे उत्सुक दिखी। कॉलेज प्राचार्य डॉ. एके साहनी ने दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का शुरुआत की। उन्होंने कहा कि मिशन शक्ति को ऑपरेशन शक्ति बनाने के लिए महिलाओं का साथ जरूरी है। घर से लेकर बाहर तक वे अपने हक की आवाज को बुलंद करें। सीएम की पहल से बेटियां सशक्त बन सकें।

इस दौरान जूडो व कराटे के प्रशिक्षकों की ओर से महिला चिकित्सा कर्मियों को आत्मरक्षा के विभिन्न आयामों की जानकारी दी गई। एंटी रोमियो प्रभारी प्रियंका सिंह ने कहा कि डरें नहीं बल्कि डटे रहें। कदम आगे बढ़ाने से ही मुश्किल आसान होगी। इस मौके पर डॉ. राजेंद्र कुमार शुक्ल, रिजवान अहमद, अजहर रजा मौजूद रहे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप