स्वामी विवेकानंद जयंती पर कवि सम्मेलन चित्र परिचय - 14बीआरएच 13 में फोटो है। संसू, गजाधरपुर (बहराइच) : कैसरगंज ब्लॉक के गुलरिहा गाजीपुर में स्वामी विवेकानंद समाज कल्याण युवा विचार मंच के तत्वावधान में कवि सम्मेलन व गोष्ठी का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि बेसिक शिक्षा राज्यमंत्री के पुत्र शिवम जायसवाल रहे।

उन्होंने कहा कि स्वामी जी को आदर्श मानकर युवा समाज में आगे बढ़ सकते हैं। विवेकानंद जी ने विश्व पटल पर देश को जो पहचान दी है, वह सराहनीय है। कवि अवध नरेश ¨सह अवधेश ने पढ़ा - नमन है गुलरिहा की धन्य भू को, जहां आज का बच्चा-बच्चा शिवा है। तिलकराम अजनबी ने पढ़ा - भूल गए यदि हम अपनी संस्कृति तो आने वाली पीढ़ी नाना-नानी भूल जाएगी। छोटे लाल माटी ने पढ़ा - वीणा को झंकार दे, मां शारदे तू प्यार दे। उमा प्रसाद लोधी ने पढ़ा - देश रहेगा, तभी ये धन-धाम रहेंगे। देश रहेगा, तभी हमारे मन के राम रहेंगे। महेश्वर बख्श ¨सह महेश ने पढ़ा - दुनिया से रुखसती हो जब मेरी जान निकले, मालिक मेरी जुबान से ¨हदुस्तान निकले। हास्य कवि पीके प्रचंड ने लोगों को ठहाका लगाने पर मजबूर कर दिया। इसके अलावा रईस सिद्दीकी, ओपी वर्मा, शिवकुमार ¨सह समेत अन्य कवियों ने भी काव्यपाठ किया। इस मौके पर शिवनाथ गौतम, डॉ.देवेंद्र कुमार उपाध्याय, एएसपी सिटी अजय कुमार, रामनिवास निषाद, रणविजय ¨सह, अनिल भारती, सुधीर गौतम समेत अन्य लोग मौजूद रहे।

Posted By: Jagran