बहराइच : गुरुवार को कजरी तीज का पर्व है। जिले के पांडवकालीन व अन्य शिव मंदिरों में जलाभिषेक के लिए कांवड़ियों का जत्था उमड़ेगा। कजरी तीज महोत्सव मनाने की तैयारियों को अंतिम रूप दे दिया गया है। शिव मंदिर सज-धज कर तैयार हो गए हैं। जलाभिषेक के लिए पौ फटने का ही इंतजार है। बुधवार से ही कांवड़ियों की यात्रा शुरू हो गई है। बोलबम, हर-हर महादेव के जयकारों से तराई गूंजने लगी है।

प्रत्येक वर्ष कजरी तीज पर्व पर आदि देव महादेव का जलाभिषेक करने के लिए दूरदराज से श्रद्धालु पांडवकालीन श्री सिद्धनाथ मंदिर में पहुंचते हैं। इसमें पड़ोसी राष्ट्र नेपाल के लोग भी शामिल होते हैं। कांवड़ियों का जत्था भी जलाभिषेक के लिए मंदिर में पहुंचता है। श्री सिद्धनाथ बाबा कांवड़िया संघ द्वारा इस वर्ष भी कजरी तीज महोत्सव पर सुबह 6.30 बजे से कांवर यात्रा निकालकर सिद्धनाथ मंदिर में पहुंचकर जलाभिषेक करेगा। श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए व्यापक इंतजाम किए गए हैं। एएसपी सिटी कमलेश दीक्षित व नगर कोतवाल रामअवतार ¨सह यादव मंदिर पर पहुंचकर सुरक्षा की स्थिति का जायजा लिया। महामंडलेश्वर रवि गिरि जी महाराज से विचार-विमर्श किया। इसके अलावा जंगलीनाथ, मंगलीनाथ, वागेश्वरनाथ समेत जिले के सभी शिव मंदिरों में जलाभिषेक के लिए श्रद्धालुओं के साथ कांवड़ियों का जत्था उमड़ेगा। कांवड़ यात्रा के स्वागत में शिव मंदिर सज-धज कर तैयार हो गए हैं। रास्ते में कांवड़ियों की यात्रा को सुगम बनाने के लिए पानी आदि की भी व्यवस्था समाजसेवियों द्वारा की जा रही है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप