बहराइच : खैरीघाट इलाके के बेली चौकसाहार गांव दादी के साथ घर में सो रही बालिका पर देर रात तेंदुए ने हमला कर दिया। उसे बचाने के लिए दादी तेंदुए से भिड़ गई। पांच मिनट तक संघर्ष के बाद तेंदुए के जबड़े से बालिका को छुड़ाने में कामयाब रही। चीख पुकार सुनकर मौके पर पहुंचे ग्रामीणों ने हांका लगाया। इसके बाद तेंदुआ जंगल में भाग गया। गंभीर हालत में बालिका को सीएचसी शिवपुर लाया गया। हालत गंभीर देख चिकित्सकों ने जिला अस्पताल रेफर कर दिया।

बहराइच वन प्रभाग के नानपारा रेंज का बेली चौकसाहार गांव जंगल से सटा हुआ है। गांव निवासी आठ वर्षीय मीना अपनी दादी के साथ घर में सो रही थी। शुक्रवार देर रात जंगल से निकलकर आया तेंदुआ घर में घुस गया। बालिका पर हमला कर उसे जबड़े में दबोच लिया। बालिका की चीख सुनकर जागी दादी ने बिना देर किए तेंदुए से भिड़ गई। शोर मचाते हुए तेंदुए से संघर्ष करते हुए बालिका को उसके जबड़े से छुड़ाने का प्रयास करती रही। स्वजन व ग्रामीणों के हांका लगाने के बाद तेंदुआ मौके से भाग गया। हमले में घायल बालिका को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। रेंजर राशिद जमील वनकर्मियों की टीम के साथ के साथ मौके पर पहुंचकर जायजा लिया।

दिनदहाड़े सराफा की दुकान से जेवरात चोरी

चौक बाजार में लल्लू की सराफा की दुकान है। सुबह 11.30 बजे दो महिलाएं जेवरात लेने के लिए पहुंची। व्यापारी को बातों में उलझाकर जेवरात देखने के दौरान एक महिला ने पैकेट उठाया और उसे रख लिया। कुछ देर बाद दोनों महिलाएं जेवरात पसंद न आने की बात कहकर चली गईं। इसके बाद जब सराफा व्यवसायी ने जेवरों के पैकेट गिने तो कम निकले। दुकान में लगे सीसी कैमरे को खंगालने पर दोनों महिलाएं चोरी करती नजर आई। व्यापारियों ने कोतवाली में तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की। साक्ष्य के तौर पर सीसी कैमरे की फुटेज भी दी। आरोप है कि पुलिस पूरे मामले में चुप्पी साधे हुए है। कोतवाल राजेश कुमार ने बताया कि तहरीर मिली है। जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी।

Edited By: Jagran