बहराइच : अग्निपथ योजना के विरोध में कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सोमवार को विधानसभा स्तर पर सत्याग्रह किया। राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन में अग्निपथ योजना वापस लेने की मांग की। पूर्व प्रदेश उपाध्यक्ष ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह ज्ञानू ने सत्याग्रह के दौरान भाजपा सरकार पर युवाओं को रोजगार दे पाने में विफल रहने का आरोप लगाया।

जिलाध्यक्ष जयप्रकाश मिश्र के नेतृत्व में राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन सिटी मजिस्ट्रेट ज्योति राय को सौंपा। आंदोलन में वरिष्ठ कांग्रेसी अनिल सिंह, जिला उपाध्यक्ष मुकुंद शुक्ल, देवेंद्र कुमार श्रीवास्तव, कमला सोनी, युवा जिलाध्यक्ष आकिब नदीम, नदीम अहमद आदि शामिल रहे।

चर्दा: डा. एएम सिद्दीकी की अध्यक्षता में कांग्रेसियों ने सत्याग्रह कर खंड विकास अधिकारी को सौंपा। सिद्धिकी ने कहा कि केंद्र सरकार ने संसद में चर्चा किए गलत नीति को थोपा है। वरिष्ठ कांग्रेसी जगमोहन शर्मा, बद्री सिंह, जुगनू खां, अंबिका पाठक बृजेश पांडे, ब्लाक अध्यक्ष रामदीन गौतम शामिल रहे।

महसी: कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने तेजवापुर ब्लाक के गांधी चबूतरा व नेहरू स्मारक स्थल पर सत्याग्रह किया। कांग्रेसियों ने अग्निपथ योजना का विरोध किया। कार्यक्रम में पूर्व प्रत्याशी डा. राजेश तिवारी, जिला उपाध्यक्ष मुनऊ मिश्र, विधानसभा प्रभारी जियाउद्दीन अंसारी, देवदत्त अवस्थी, विनोद मिश्र, देवेंद्र मिश्र, ननकऊ अवस्थी, रमजान, सुरेश, अंकुर, उदयराज मौजूद रहे।

विशेश्वरगंज: विधानसभा पयागपुर के कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने ब्लाक मुख्यालय पर सेनानी स्मारक के समक्ष सत्याग्रह कर बीडीओ के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन भेजा। वरिष्ठ नेता विनय सिंह, उमेश तिवारी, सतीश सिंह, श्याम बिहारी वैश्य, आलोक पाठक, अमिताभ वर्मा, दुर्गेश सिंह, राजेश पांडे शामिल रहे। बकाया भुगतान को लेकर गन्ना किसानों का प्रदर्शन

चिलवरिया चीनी मिल से गन्ना बकाया का भुगतान नहीं किए जाने से आक्रोशित किसानों ने सोमवार को कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन किया। मिल प्रबंधक पर मनमानी का आरोप लगाते हुए डीएम को ज्ञापन सौंपकर किसानों ने जांच कराकर भुगतान कराने की मांग की।

किसान मन्नू सिंह, चंद्रप्रताप त्रिपाठी, मुन्नूलाल वर्मा, रमेश कुमार, विनोद कुमार, अमित सिंह, राममनोरथ, अनुराग मिश्र, राकेश कुमार, नागेंद्र सिंह, अनीता देवी, बृजेश सिंह, अनिल कुमार, धनंजय सिंह की अगुआई में पहुंचे। सभी ने कहा कि मिल के जीएम पीएन सिंह की ओर से मनमाने तरीके से किसानों का भुगतान किया जा रहा है।

करीब तीन माह तक मिल संचालित हुई है, मगर अब तक महज 11 दिन का ही भुगतान हुआ है। जो किसान जीएम के संपर्क में रहते हैं, उनका करीब 80 प्रतिशत तक भुगतान किया जा चुका है। गरीब किसानों को पैसे के भुगतान के लिए भटकना पड़ रहा है। मिलने पर अभद्र तरीके से व्यवहार किया जाता है। सभी ने कहा कि किसानों को एक-एक पर्ची का बकाया का भुगतान जरूर कर दिया जाए। जिससे सभी फसल की बोवाई के लिए खाद, बीज का इंतजाम कर सकें। प्रदर्शन के बाद डीएम डा. दिनेश चंद्र को ज्ञापन सौंपा गया। इस मामले में महाप्रबंधक पीएन सिंह का पक्ष जानने के लिए उनसे मोबाइल पर संपर्क करने का प्रयास किया गया, मगर उनका नंबर स्विच आफ बताता रहा। जिला गन्ना अधिकारी शैलेष मौर्य ने बताया कि किसानों और मिल प्रबंधन के बीच जल्द ही बैठक कराकर समस्या के निस्तारण का प्रयास किया जाएगा।

Edited By: Jagran