जासं, बहराइच : पीड़ित महिलाओं को त्वरित न्याय दिलाने को लेकर अधिकारियों को निष्पक्ष कार्य करने के निर्देश दिए जाते हैं, लेकिन थानों व कोतवालियों में बैठे खाकीधारियों पर इन आदेशों का कोई असर नहीं पड़ता है। इसकी मिसाल कोड़री निवाजिश बुढ़ानपुर गांव की अनुसूचित जाति की महिला बनी हुई है। पुरानी रंजिश में महिला को घर में आग लगाकर उसे जिदा जलाने का प्रयास किया गया, लेकिन पुलिस ने रिपोर्ट नहीं दर्ज की। न्याय पाने के लिए वह अधिकारियों की चौखट नाप रही है।

कैसरगंज थाना क्षेत्र के कोड़री निवाजिश बुढ़ानपुर गांव निवासी बिटाना पत्नी भिखारी ने उच्चाधिकारियों को शिकायती पत्र सौंपा है। शिकायती पत्र में उल्लेख किया है कि गांव निवासी दो दबंगों ने पुरानी रंजिश के चलते उनके घर में आग लगा दी। घटना के समय महिला घर में अकेली सो रही थी। आग की तपिश से उसकी आंख खुल गई। शोर मचाते हुए वह किसी तरह बाहर भागी। ग्रामीणों ने किसी प्रकार कड़ी मशक्कत कर आग पर काबू पाया। पीड़ित महिला ने दबंगों पर कार्रवाई को लेकर नामजद तहरीर पुलिस को दी। आरोप है कि पुलिस मामले को दबाने के प्रयास में है। कैसरगंज सीओ टीपी द्विवेदी ने बताया कि महिला रंजिशन अपने विरोधियों को फंसाने के लिए साजिश के तहत तहरीर दे रही है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप