बहराइच : तीन साल पहले सपा सरकार बनने एवं स्थानीय विधायक डॉ. वकार अहमद शाह के प्रदेश सरकार में मंत्री बनने से विकास की तमाम आस लगाए बैठे शहरवासियों को इस वक्त विकास कार्यों के रुके होने का मलाल है। उन्हें बीमारी के चलते अपने विधायक की शहर में गैर मौजूदगी खटकती है। सघन आबादी वाले इलाकों में सड़कों का विकास हो या बिजली, पानी की समस्या या फिर कोई अन्य जरूरत। विधायक के मौजूद न होने के चलते लोगों को मन मसोस कर रह जाना पड़ता है, हालांकि उनके बेटे एवं वर्तमान समय में ऊर्जा राज्यमंत्री यासर शाह लोगों की समस्याओं का निदान एवं प्रदेश सरकार सरकार के स्तर से संभव विकास कार्य कराकर कुछ हद तक भरपाई करने की कोशिश करते हैं।

वर्ष 2012 में सपा सरकार बनने के बाद चुने गए बहराइच सदर विधायक डॉ.वकार अहमद शाह से नगरवासियों ने काफी उम्मीेदें लगा रखी थीं। जनता की उम्मीदों पर खरा उतरने में विधायक ने पूरी तत्परता दिखाई। गरीब हो या अमीर, जाति धर्म का भेदभाव किए बिना मदद के दरवाजे के सभी के लिए खोले, लेकिन पिछले दो वर्ष पूर्व गंभीर बीमारी के चलते अस्पताल में भर्ती होने के बाद विकास कार्यों में धीमापन आ गया। वित्तीय वर्ष 2014-15 में विधायक निधि खात में बजट आवंटन भी नहीं हुआ। इसके चलते अधर में लटके विकास कार्य अब लोगों की मुसीबतें बढ़ा रहे है।

सड़क निर्माण पर रहा जोर-बहराइच सदर विधानसभा 2012-13 व 2013-14 में विधायक निधि से सड़कों का निर्माण, नालियां, पुलियों का निर्माण, टूटी इंटरला¨कग की मरम्मत जैसे कार्य विधायक निधि से कराए गए। विकास कार्यों के प्रति समर्पण का ही नतीजा है कि विधायक निधि में प्राप्त पूरी धनराशि का खर्च संभव हो पाया है।

नहीं आवंटित हुआ बजट

-वित्तीय वर्ष 2014-15 के दौरान विधायक के बीमार होने के चलते बजट आवंटन नहीं हुआ। बावजूद इसके, नगर विधायक के बेटे व प्रदेश सरकार में ऊर्जा राज्यमंत्री यासर शाह अपने पिता के द्वारा शुरू कराए गए विकास कार्यों को पूरा कराने की हर कोशिश में लगे हुए हैं। शहर की जनता को विकास कार्यों में गति के लिए अपने विधायक के एक बार फिर स्वस्थ होकर लौटने का इंतजार जारी है।