जागरण, जेएनएन : दाहा यज्ञशाला पर तीन दिवसीय ऋग्वेद खंड पारायण यज्ञ का वैदिक मंत्रोच्चार के साथ मंगलवार को समापन हो गया। यज्ञ के ब्रह्मा स्वामी विवेकानंद सरस्वती ने कहा कि सत्य अहिसा को अपनाने वाला मनुष्य महान कहलाता है।

स्वामी विवेकानंद सरस्वती, भोला झाल टीकरी ने कहा कि सात्विक भोजन, उत्तम विचार मनुष्य को महान बनाता है। वातावरण में बढ़ते जा रहे प्रदूषण को रोकने के लिए यज्ञ अपनाना जरूरी है। यज्ञ के माध्यम से हम वातावरण में फैले विकारों को दूर कर सकते हैं। यज्ञ में राजेंद्र सिंह, मा. रामकुमार व सविता आर्या ने अपने भजनों के माध्यम से यज्ञ प्रेमियों को मंत्रमुग्ध किया। इस दौरान आत्माराम तोमर, सतप्रकाश, धीरज कुमार शास्त्री, गुरुदत्त आर्य, ओमपाल शास्त्री, सोमपाल राणा, चंद्रवीर राणा, विवेक राणा, ऋचा सिंह, शौर्यवीर, विजय सिंह राठी, ब्रह्मचारी आर्य आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस