बागपत, जेएनएन। एक बार फिर मौसम बदला तो बुधवार अलसुबह से बारिश शुरू हो गई। दिन भर छिटपुट बारिश से जगह-जगह जलभराव तो कीचड़ की स्थिति बनी रही। बारिश के कारण दिन भर राहगीरों को परेशानी उठानी पड़ी। वहीं बारिश ने गर्मी से भी लोगों को राहत दिलाई। सुबह बच्चे बारिश से भीगते हुए स्कूलों तक पहुंचे तो कुछ ने घर पर रहकर रेनी-डे मनाया।

सूर्यदेव के बादलों के आगोश में समाए रहने से धूप नहीं निकली। पाठशाला मार्ग पर शहीद द्वार के पास जलभराव होने से राहगीरों को खासी परेशानी उठानी पड़ी। कई बार सवार हुए गड्ढों में भरे पानी के कारण गिरकर जख्मी भी हुए। हैरत की बात है कि महीनों पहले बनाए मार्ग को टूटे हुए करीब दो माह हो चुके हैं लेकिन कोई सुनवाई करने को तैयार नहीं है। यहां हुए गड्ढों के कारण आए दिन राहगीर दुर्घटना का शिकार होते हैं। कई बार राहगीर प्रशासनिक अधिकारियों से भी मार्ग की मरम्मत कराने की मांग कर चुके हैं। पर नतीजा सिफर है। एसडीएम अजय कुमार का कहना है कि जल्द समस्या का निदान कराया जाएगा। मौसम हुआ सुहावना, जलभराव ने रेशानी में डाला

एक सप्ताह शांत रहने के बाद दोबारा सक्रिय हुए मानसून के कारण बुधवार को दूसरे दिन भी दिनभर रिमझिम बारिश होती रही। इस दौरान बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया और शहर की सड़कें जलमग्न होने से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

बारिश से शहर का बाजार सूना-सूना रहा। इस दौरान व्यापारी ग्राहकों की बाट जोहते नजर आए। इसके अलावा शहर के कैनाल रोड गांधी रोड, अतिथि भवन, सब्जी मंडी, बिनौली रोड पर एक-एक फीट ऊंचाई तक पानी भर गया। बुधवार को पीडब्ल्यूडी ने जगह-जगह टूटी हुई सड़कों पर पत्थर के टुकड़े डलवाए, जिससे वाहन चालकों को थोड़ी राहत मिल गई। उधर, बारिश के बाद तापमान में काफी गिरावट दर्ज की गई। मौसम सुहावना होने से लोगों को चिपचिपी गर्मी से राहत मिली।

Edited By: Jagran