बागपत, जेएनएन। शहर के पांडव नगर में रहने वाले सेना के जवान की ह्दय गति रुकने से उस समय मौत हो गई, जब वह प्रमोशन के लिए दौड़ रहा था। जवान की पिछले साल ही शादी हुई थी और दो दिन पहले ही बेटी पैदा हुई है। वह अपने माता-पिता का इकलौता बेटा था। जवान की मौत के बाद उसके घर में कोहराम मचा हुआ है।

हिम्मतपुर सूजती के रहने वाले सचिन राठी पुत्र सुखपाल का परिवार शहर के पांडव नगर में रहता है। सचिन वर्ष 2011 में सेना में जवान के पद पर भर्ती हुए थे। वह तीन साल से श्रीनगर में तैनात थे और अब उनकी तैनाती अंबाला में थी। पिछले साल दिसंबर माह में ही उनकी शादी ढिकौली गांव की रहने वाली प्रियंका से हुई थी। दो दिन पहले ही उनके बेटी पैदा हुई है। सचिन अपने माता-पिता के इकलौते बेटे थे। उनके पड़ोसी अमित ने बताया कि अंबाला में सचिन प्रमोशन के लिए दौड़ रहे थे। उसी दौरान ह्दय गति रुकने से उनकी हालत बिगड़ गई और उपचार के दौरान उनका शुक्रवार को निधन हो गया।

उनकी बटालियन में तैनात उनके साथी शनिवार को सचिन राठी के शव को लेकर शहर स्थित उसके आवास पर पहुंचे। शव देखते ही उनके स्वजन बिलख पड़े। सचिन के अंतिम दर्शन के लिए लोगों की भीड़ लग गई। सैनिक सम्मान के साथ उनके पार्थिव शव का श्मशान घाट में अंतिम संस्कार कर दिया। मृतक की आत्मा की शांति के लिए दो मिनट का मौन रखा। इस दौरान पर पूर्व विधायक वीरपाल राठी, चेयरमैन अमित राणा, रामकुमार चेयरमैन, पूर्व विधायक गजेंद्र सिंह, अरुण तोमर, प्रमेंद्र तोमर, विकास प्रधान आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran