बागपत, जेएनएन। बदरखा गांव में लोगों के हाथों मारे गए नाग-नागिन के शवों को जमीन से निकालकर पोस्टमार्टम कराया और उसके बाद दोनों के शवों को जला दिया। नाग व नागिन धामन प्रजाति के थे और यह सांपों की विशेष प्रजाति होती है। उधर, नाग-नागिन को मारने वाले चार आरोपितों के खिलाफ छपरौली थाने में मुकदमा दर्ज करा दिया है।

वन विभाग के एसडीओ कल्याण सिंह ने बताया कि बुधवार को सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें लोग नाग-नागिन को मार रहे थे। इस मामले को गंभीरता से लेते हुए इस घटना की जांच कराई गई, तो यह घटना छपरौली थाना क्षेत्र के बदरखा गांव की निकली। जांच के बाद पता चला कि नाग-नागिन धामन प्रजाति के थे और यह प्रजाति सांपों में विशेष होती है इसलिए वह गुरुवार को बड़ौत रेंज कार्यालय और उसके बाद छपरौली पहुंचे। वन विभाग के कर्मचारियों को गांव में भेजकर नाग-नागिन के शवों को कूड़ी के ढेर से निकलवाया और पशु चिकित्सकों से दोनों के शवों का पोस्टमार्टम कराया। दोनों के शव कूड़ी में दबकर गलने की स्थिति में हो गए थे। उसके बाद दोनों के शवों को बड़ौत वन रेंज कार्यालय लाया गया और दोनों के शवों को लकड़ियों में जलाया गया। इस घटना में वन्य जीव संरक्षण अधिनियम 1972 की धारा के अंतर्गत इकबाल, इनाम, फिरोज और सतकुमार के खिलाफ छपरौली थाने में मुकदमा दर्ज कराया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस