बागपत, जागरण संवाददाता। मेघालय के पूर्व राज्यपाल सत्‍यपाल मलिक सरकार पर जमकर बरसे। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार में बढ़ रही महंगाई और बेरोजगारी से देश में हाहाकार मचा है। यह सरकार किसान विरोधी है। उन्होंने भविष्य के राजनीतिक सफर पर कहा कि न तो वह कोई चुनाव लड़ेंगे और न किसी पार्टी में जाएंगे। सिर्फ किसानों की लड़ाई लड़ेंगे। रालोद सुप्रीमो जयन्त चौधरी और सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव की मदद करूंगा, क्योंकि मैं इन्हीं पार्टियों से निकला हुआ हूं।

पैतृक गांव हिसावदा पहुंचे मलिक

बुधवार को पैतृक गांव हिसावदा के प्राथमिक विद्यालय में स्वजन और ग्रामीणों ने सामूहिक भोज कार्यक्रम रखा था। कार्यक्रम में पहुंचे सत्‍यपाल मलिक ने वहां भोजन किया। इसके बाद पत्रकार वार्ता में कहा, किसानों का गन्ने का भुगतान रुका हुआ है। बकाया पर ब्याज भी नहीं दिया जा रहा। माफी मांगकर किसानों को धरने से उठाया गया, लेकिन अब एमएसपी कानून पर बेइमानी की जा रही है। उन्होंने सेना की अग्निवीर भर्ती पर कहा कि सिर्फ चार साल की नौकरी है, जिसमें पेंशन भी नहीं है। मुजफ्फरनगर में सेना भर्ती में पहुंचे युवकों को सड़कों और झाड़ियों में सोना पड़ा, खाना तक नहीं मिला। 

'मेरी फाइल चेक करा लें, कुछ नहीं मिलेगा'

 सरकार के विरुद्ध बोलने वालों पर ईडी और अन्य जांच एजेंसियों के छापा मारने के सवाल पर सत्‍यपाल मलिक ने कहा कि अब मेरी भी जांच हो सकती है, लेकिन मैं तो फकीर हूं। कश्मीर या अन्य जगहों की मेरी फाइल चेक करा लें, कुछ नहीं मिलेगा। मैंने कुछ गलत नहीं किया है, इसलिए इनसे नहीं डरता। कार्यक्रम के बाद वह दिल्ली के लिए रवाना हो गए। भारतीय किसान संगठन के उपाध्यक्ष अन्नू मलिक, फखरुद्दीन राणा, वीरेंद्र मलिक, इंद्रपाल सिंह, ज्ञानेंद्र, अमरदीप सिंह, नीलू, राजा, सचिन आदि मौजूद रहे।

ट्रैक्टर-ट्राली में यात्री लेकर चलने पर प्रतिबंध पर जताया रोष

बागपत, जागरण संवाददाता। भाकियू अराजनैतिक संगठन के तत्वावधान में जागोस गांव में हुई किसानों की बैठक में प्रदेश सरकार के ट्रैक्टर-ट्राली में यात्री लेकर चलने पर रोक लगाए जाने सहित अन्य समस्याओं पर रोष व्यक्त किया। 

Edited By: Parveen Vashishta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट