बागपत, जेएनएन। गोठरा के प्राथमिक विद्यालय का जर्जर कमरा बारिश के पानी के कारण भरभराकर गिर गया। गनीमत रही कि अवकाश होने के बाद कमरा गिरा। उधर ढिकौली गांव में जर्जर प्राथमिक विद्यालय के भवन को ठीक कराने की मांग ग्रामीणों ने की।

गांव के प्राथमिक विद्यालय नंबर एक प्रांगण में पुराना भवन आज भी जर्जर हालत में हैं। विद्यार्थी उक्त कमरे में आसपास खेलते हैं। कई बार शिक्षक अधिकारियों से जर्जर भवन को ध्वस्त कराने की मांग कर चुके हैं, पर नतीजा सिफर है। कई दिन हुई बारिश का पानी उक्त कमरे में पास एकत्रित हो गया था तो मंगलवार शाम गिर गया। गनीमत रही कि विद्यालय चलने के दौरान यह कमरा नहीं गिरा। इससे बड़ा हादसा होने से टल गया। प्रधानाचार्या अर्चना के साथ ग्राम प्रधान एड. जितेंद्र बंसल ने अधिकारियों को पत्र भेजकर भवन को ध्वस्त कराने की मांग की। उधर, ढिकौली गांव में प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालय एक ही परिसर में हैं। विभागीय लापरवाही के कारण विद्यालय का भवन काफी जर्जर हालत में पहुंच गया है।

ग्रामीण ब्रजपाल, पिटू, रविद्र आदि का कहना था कि विद्यालय के भवन की शिकायत कई बार की जा चुकी है। जर्जर भवन के कारण विद्यार्थियों के साथ कभी कोई भी हादसा हो सकता है।

प्रधानाचार्य मंजू का कहना है कि परिसर में आए दिन जहरीले जीव निकलते रहते हैं। कारणवश विद्यार्थियों को कभी कमरे तो कभी खुले आसमान के नीचे बैठाकर पढ़ाना पढ़ता है। ग्राम प्रधान संदीप ढाका का कहना है कि अधिकारियों को संबंध में पत्र भेजा गया है। जल्द समस्या का समाधान कराया जाएगा।

Edited By: Jagran