बागपत, जेएनएन। शहर के संत रवि दास छात्रावास परिसर में एबीवीपी के नेतृत्व में डाक्टर भीमराव अंबेडकर की पुण्य तिथि मनाई गई। एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने उन्हें पुष्प अर्पित करते हुए नमन किया।

इस दौरान दीपक भारती ने कहा कि बाबा साहब अनुसूचित जाति, पिछ़ड़ों और वंचितों की आवाज थे। अंबेडकर जीवन दबे, कुचले, शोषित और पीड़ित लोगों के अधिकारों की रक्षा के लिए लड़ते रहे। श्रमिकों से लेकर किसान और महिलाओं के अधिकार के लिए भी वह लड़े। एबीवीपी के जिला विस्तारक ओजश ने कहा कि अंबेडकर ने पूरा जीवन जातिवाद को खत्म करने, गरीबों, अनुसूचित जाति और पिछड़े वर्गों के लिए अर्पित किया। इस दौरान प्रशांत तोमर, पवन शर्मा, एबीवीपी के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य हैप्पी शर्मा, अंकुर ठाकुर, अमन गुप्ता, अनमोल दिवाकर, आनंद कुमार, नंद किशोर, अंकित कुमार आदि मौजूद रहे। उधर, रालोद के बहुजन उदय अभियान के अंतर्गत चौधरी चरण सिंह ग्रुप आफ इंस्टीट्यूट, छपरौली रोड पर डाक्टर भीमराव अंबेडकर की पुण्यतिथि पर श्रद्धासुमन अर्पित कर श्रद्धांजलि दी गई। इंस्टीट्यूट निदेशक एवं आदर्श जाट महासभा के राष्ट्रीय महासचिव डाक्टर संजीव आर्य ने कहा कि बाबा साहब के बताए हुए रास्ते पर चलकर ही देश की उन्नति एवं विकास हो सकता है। चौधरी सत्येंद्र सिंह की अध्यक्षता व चौधरी भीम सिंह के संचालन में हुए कार्यक्रम में डाक्टर अशोक कुमार, डाक्टर जावेद अली, चौधरी राजेंद्र सिंह, मनोज, उमेश चौधरी, राहुल सिंह, अंकित सिंह आदि मौजूद रहे। बाबा साहब का किया स्मरण, बच्चों ने दिखाई प्रतिभा

प्राथमिक विद्यालय में डा. भीमराव अंबेडकर का महापरिनिर्वाण दिवस मनाया गया। डा. भीमराव अंबेडकर के चरणों में फूल अर्पित कर नमन किया गया। इस अवसर पर विद्यालय में चित्रकला प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें कक्षा तीन से कक्षा पांच तक के छात्रों तनु, विशाखा, वंशिका ,खुशी, वैष्णवी, जुबेर, साक्षी, लाइबा, राखी, रिया, अंशु, अम‌र्त्य, पायल, राधिका, निधि आदि ने प्रतिभाग किया। जिसमें कक्षा पांच की तनु ने प्रथम स्थान, कक्षा चार की वंशिका ने द्वितीय स्थान तथा कक्षा तीन के अमृत्य ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। चयनित छात्रों को पुरस्कृत कर सम्मानित किया गया। इस दौरान बच्चों को डा. भीमराव अंबेडकर के जीवन के विषय में भी समझाया गया। इस अवसर पर विद्यालय के प्रधानाध्यापक कविता सिंह, विनय कुमार, रेनू पवार, संगीता, रचना, दिव्या चौधरी आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran