बागपत (जेएनएन)। जिला कारागार में माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी के सिर व सीने पर सटाकर गोलियां मारी गईं। सुनील राठी ने मुन्ना बजरंगी को उठने का मौका नहीं दिया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार उसे नौ गोलियां लगीं और शरीर पर गोलियों के 13 निशान हैं। सिर का दायां हिस्सा गोलियां लगने से बाहर निकल आया था। उल्लेखनीय है कि सोमवार सुबह बागपत जिला कारागार में सुनील राठी व मुन्ना बजरंगी के बीच विवाद हो गया था। इसी विवाद में सुनील ने पिस्टल से मुन्ना बजरंगी पर 10 गोलियां चलाईं। सुनील ने पिस्टल को जेल के गटर में फेंक दिया था। पुलिस ने घटनास्थल से 10 खोखे बरामद किए। मुन्ना बजरंगी के शव का पोस्टमार्टम जिला अस्पताल में चार चिकित्सकों की टीम ने किया।

मुन्ना बजरंगी के सीने से मात्र एक गोली निकली

पुलिस सूत्रों की मानें तो पोस्टमार्टम में मुन्ना बजरंगी के सीने से मात्र एक गोली निकली जिसे फॉरेंसिक जांच के लिए भेजा गया है। यह जानने के लिए कि यह वह गोली तो नहीं है जो उसे कई वर्ष पूर्व मुठभेड़ के दौरान लगी थी और सीने में फंसी थी। बाकी गोलियां उसके शरीर से आर-पार निकल गईं। मुन्ना बजरंगी को लगी नौ गोलियों के शरीर पर आए गहरे काले निशान से साफ होता है कि सभी गोलियां सटाकर मारी गईं। उसके सिर में छह निशान आए हैं। सिर के अगले हिस्से में बाईं तरफ दो और दाईं तरफ एक बड़ा निशान है। सिर के पिछले हिस्से में दाईं ओर दो व बाईं ओर एक निशान है। छाती में पांच निशान हैं और पीठ पर दो निशान हैं। 

जेल के गेट पर खौफ में मुन्ना बजरंगी 

मुन्ना बजरंगी को सोमवार को जिस वक्त बागपत जेल में लाया गया, उसी दौरान जेल के गेट के बाहर मोबाइल से दो वीडियो बनाया गया। एक वीडियो 17 और दूसरा 32 सेकंड का है। ये वीडियो वायरल हो रहे हैं।पहले वीडियो में एक गाड़ी जेल के बाहर वाले दरवाजे से अंदर जाती दिखाई दे रही है। इसमें कई पुलिसकर्मी भी मौजूद हैं। दूसरे वीडियो में मुन्ना बजरंगी पुलिसकर्मियों से घिरा हुआ है और उसके साथ कई लोग भी हैं। इसी वीडियो में जेल का दरवाजा खुलता है और मुन्ना बजरंगी अपने जानकार से एक सफेद तौलियानुमा कपड़ा लेते हुए कहता है कि डाक्टर साहब को भी तुम अपने साथ ही ले जाओ। उसके बाद वह जेल के अंदर चला जाता है। इस वीडियो में मुन्ना बजरंगी के चेहरे पर खौफ साफ देखा जा सकता है। वह वहां मौजूद लोगों के साथ एक डॉन की तरह नहीं बल्कि आम आदमी की तरह पेश आ रहा है। 

जंगल में बागपत जेल आसपास कोई नहीं रहता

बागपत जेल जंगल में है, जिसके आसपास भी कोई नहीं रहता। एक दुकान है, जो शाम को बंद हो जाती है। ऐसे में सवाल यह है कि मुन्ना बजरंगी जब जेल में आया तो मोबाइल से वीडियो किसने बनाया? वीडियो खुलकर नहीं बल्कि छिपाकर बनाया गया है। संभावना जताई जा रही है कि ये वीडियो मुन्ना बजरंगी के साथ आए लोगों ने सबूत के तौर पर बनाए, ताकि कोई अनहोनी होने पर उसे पेश किया जा सके। दरअसल, जिला प्रशासन ने बगैर किसी लिखित दस्तावेज के ही मुन्ना बजरंगी को जेल में रुकवाया था। ऐसे में उन लोगों को डर था कि प्रशासन मुकर सकता है। लेकिन सुबह ही घटना हो गई। एसपी जयप्रकाश ने बताया कि पता कराया जा रहा है कि वीडियो किसने बनाया और इसके पीछे क्या कारण हैं।  

Posted By: Nawal Mishra