बागपत, जेएनएन। जिन्न उतारने का झांसा देकर मस्जिद में महिला हेड कांस्टेबल से दुष्कर्म करने के आरोपित मौलाना को पुलिस ने शुक्रवार को एसपी दफ्तर के बाहर से गिरफ्तार कर लिया। वह अपनी बेगुनाही के साक्ष्य देने के लिए मुस्लिम धर्मगुरुओं के साथ एसपी के पास पहुंचा था।

यह था मामला

जनपद के एक थाने में तैनात महिला हेड कांस्टेबल का बेटा गत वर्ष सड़क हादसे में गंभीर रूप से घायल हो गया था। उसका मेरठ के एक निजी अस्पताल में इलाज चल रहा था। बेटे की हालत में सुधार हो जाए, इसलिए तीन जुलाई 2018 की शाम वह मस्जिद में मौलाना के पास पहुंची थी। मौलाना ने रात करीब 10.30 बजे मस्जिद में बुलाकर जिन्न उतारने के बहाने उसके साथ दुष्कर्म किया था। फिर उसको ब्लैकमेल करने लगा था। करीब 15 माह तक कई बार उसके साथ दुष्कर्म किया और लाखों रुपये हड़पे। परेशान होकर पीड़िता ने पुलिस अफसरों से शिकायत की। बुधवार को महिला थाने में आरोपित मौलाना जुबैर निवासी मोमीन मस्जिद बागपत के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ। मामला सुर्खियों में आने पर आरोपित मौलाना जुबैर जनपद की विभिन्न मजिस्दों व मदरसों के इमाम, मौलानाओं के साथ शुक्रवार को एसपी दफ्तर पहुंचा। मौलाना जुबैर ने खुद को निर्दोष बताया तथा मुस्लिम धर्मगुरुओं ने भी उसकी हिमायत की। एसपी प्रताप गोपेंद्र यादव से मुलाकात करने के बाद वे सभी एसपी दफ्तर के बाहर खड़े हो गए थे, तभी कोतवाली पुलिस ने वहां पर पहुंचकर आरोपित मौलाना जुबैर को हिरासत में ले लिया। पुलिस उससे कोतवाली में पूछताछ कर रही है।

क्‍या कहता है आरोपित मौलाना

आरोपित मौलाना जुबैर का कहना है कि उसकी दूध की डेयरी में पिछले छह माह से महिला हेड कांस्टेबल दूध लेने के लिए आती थी। उसकी पत्नी से पुलिसकर्मी से अच्छी जान पहचान हो गई थी। महिला हेड कांस्टेबल ने पहले उससे बेटी की शादी करने के नाम पर दस लाख रुपये की डिमांड की। उसने असमर्थता जता दी थी। थोड़े दिन बाद में महिला हेड कांस्टेबल उनसे मकान खरीदने की बात करने लगी। उसने उनको 27 लाख रुपये के फर्जी चेक दे दिए थे। पता चलने पर उसने मकान का बैनामा नहीं किया तो उन पर दबाव बनाने लगी और दूसरे लोगों से भी धमकी दिलाने लगी थी।

आतंकियों से कनेक्शन होने का जताया गया था मौलाना पर शक

पुलिस अफसरों के पास करीब चार माह पूर्व एक गुमनाम पत्र पहुंचा था, जिसमें मौलाना जुबैर के आतंकियों से संबंध होने का शक जताया गया था। खुफिया तंत्र ने उनसे पूछताछ भी की थी। उधर मौलाना का कहना है कि उस समय भी उनको कुछ लोगों ने केस में फंसाने की साजिश की थी।

लाखों रुपये भी हड़पे

आरोपित मौलाना ने पीड़िता को ब्लैकमेल कर लाखों रुपये भी हड़पे। पोल खुलने के डर से मौलाना व कुछ जिम्मेदार लोगों ने पीड़िता पर समझौते का दबाव भी बनाया था। सीओ ने इसकी पुष्टि की है।

Posted By: Taruna Tayal

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस