बागपत, जेएनएन। धनौरा सिल्वरनगर में 20 दिन पूर्व हुए झगड़े की इंटरनेट मीडिया पर वीडियो वायरल हो रही है। इसमें एक युवती पिस्टल तानते हुई नजर आ रही है। झगड़े के संबंध में एक पक्ष के लोगों ने एसपी दफ्तर पर पहुंचकर अफसरों से शिकायत की।

महिला समंत्रा ने बताया कि उनके पति ने गांव के एक व्यक्ति को करीब पांच माह पूर्व 50 हजार रुपये उधार दिए थे, लेकिन निर्धारित समय पर रुपये नहीं लौटाये। रुपये का तगादा करने पर गत 25 जून की सुबह आरोपित व्यक्ति पक्ष ने गाली-गलौज करते हुए रुपये देने से इन्कार कर दिया था। इसी के चलते एक घंटे बाद कुछ लोगों ने उनके घर में घुसकर परिवार पर लाठी-डंडों से जानलेवा हमला कर दिया। तोड़फोड़ कर सामान को क्षतिग्रस्त किया। उनका गला दबाकर मारने का प्रयास किया।

वहीं, युवक प्रदीप ने बताया कि हमला के समय किसी ने मोबाइल से वीडियो बनाई। जिसको बाद में वायरल किया गया। वीडियो में न केवल लाठी-डंडों से हमला करते लोग दिखाई दे रहे है, बल्कि एक युवती तो पिस्टल तानते हुए साफ दिखाई दे रही है। बाद में युवती ने पिस्टल एक युवक को दिया। इसके बावजूद पुलिस कोई कार्रवाई नहीं की। उल्टा उनके खिलाफ ही मुकदमा दर्ज कराया गया। जमानत पर जेल से छूटे हैं।

विपक्षी पूर्व ब्लाक प्रमुख के पति विनोद ने बताया कि राशन वितरण के समय लाइन में खड़े होने को लेकर हुए विवाद में उनके परिवार के साथ मारपीट की गई थी। पाटीबार्जी के चलते लगाए गए आरोप निराधार हैं। उधर, बिनौली थाना प्रभारी संजय कुमार का कहना है कि झगड़ा करने वाले लोग तरह-तरह के आरोप लगाकर शिकायत कर रहे हैं। किसी युवती के पास झगड़े के समय पिस्टल नहीं थी। इस तरह की कोई वीडियो सामने नहीं आई है।

Edited By: Jagran