बागपत, जेएनएन। गन्ना विभाग ने अब नये पेराई सत्र के लिए गन्ना सर्वे कराने की कवायद शुरू कर दी है। कोरोना के कहर को देखते हुए अबकी बार कर्मी किसानों के आफलाइन घोषणा पत्र नहीं भरेंगे। किसानों को गन्ना विभाग की साइट पर आनलाइन घोषणा पत्र भरना होगा। ऐसा नहीं करने पर किसान चीनी मिलों में गन्ना आपूर्ति नहीं कर सकेंगे। इस बार आनलाइन करना होगा, ताकि कोई परेशानी नहीं हो।

पिछले सालों तक चीनी मिलों और सहकारी समितियों के कर्मी गांवों में किसानों ने आफलाइन घोषणा पत्र भरवाकर गन्ना सर्वे करते थे। भैसाना चीनी मिल 15 मई से तथा बाकी सभी 11 चीनी मिलें 10 मई से गन्ना सर्वे शुरू कराएंगी।

जिला गन्ना अधिकारी डा. अनिल कुमार भारती ने बताया कि आनलाइन घोषणा पत्र में मांगी गई सूचना भरने के बाद किसानों को आधार कार्ड, बैंक पास बुक, गन्ना क्षेत्रफल और राजस्व खतौनी अपलोड करनी होगी। ऐसा नहीं करने वाले किसानों का सट्टा चालू नहीं होगा। इससे चीनी मिलों को गन्ना आपूर्ति नहीं कर सकेंगे।

अपने स्मार्टफोन या कंप्यूटर पर इनक्वायरी डॉट केनयूपी डॉट इन.. पर जाकर अपना जिला चयन करें, फिर अपनी चीनी मिल का चयन करें। अपने ग्राम का कोड भरें। अपना कृषक कोड भरें। फिर रेवेन्यू डाटा में एंटर करें। उसके बाद समस्त मांगी गई सूचनाओं को भरते जाएं तथा आवश्यक अभिलेख अपलोड करें। बागपत के 1.24 लाख किसानों को गन्ना सर्वे कराने को आनलाइन घोषणा पत्र भरना पड़ेगा। किसान जन सुविधा केंद्र पर भी अपना घोषणा पत्र भरवा सकते हैं। इसके बाद कर्मचारी किसानों के खेतों पर जाकर गन्ना सर्वे करेंगे।