बागपत, जेएनएन। नंगलाबड़ी गांव में चल रही दो दिवसीय प्रतियोगिता जल्द मैच होने के कारण एक ही दिन में समाप्त हो गई। प्रतियोगिता पर फखरपुर की टीम का कब्जा रहा।

नंगलाबड़ी गांव में दो दिवसीय कबड्डी प्रतियोगिता में रोहतक, हिसार, नंगलाबड़ी, फखरपुर और बसी आदि टीमों ने प्रतिभाग किया था। सभी टीम के बीच शनिवार में ही मैच हो गए। देर रात फाइनल मैच फखरपुर व बसी की टीम के बीच खेला गया। बसी के खिलाड़ियों को शिकस्त देकर फखरपुर की टीम ने प्रतियोगिता पर कब्जा जमाया। फखरपुर प्रथम, बसी द्वितीय, नंगलाबड़ी की टीम तृतीय स्थान पर रही। स्थान प्राप्त करने वाली टीमों को पुरस्कृत किया। ग्राम प्रधान प्रवीण कुमार, सुंदर डागर, सोनू, लोकेंद्र आदि मौजूद रहे। स्कूलों में रसोइयों के रिक्त पदों पर होगी नियुक्ति

अब उन बच्चों को मिड से मील से वंचित नहीं होना पड़ेगा, जहां रसोइया नहीं हैं।

शासन में विशेष सचिव आरवी सिंह ने विभागीय अधिकारियों को अवगत कराया कि वर्ष 2021-2022 में कोविड से स्कूल रसोइया की मौत होने, अन्यत्र प्रवास करने, निजी कारणों से त्याग पत्र देने या प्रधान बन जाने से रिक्त हुए रसोइयां पदों पर नियुक्ति की जाएगी।

अब बीएसए राघवेंद्र सिंह ने उक्त कारणों से रिक्त हुए रसोइयों के पदों पर नियुक्ति की कार्रवाई का आदेश दिया। साफ है कि बागपत के दर्जनों स्कूलों के सैकड़ों बच्चों को रसोइयों की नियुक्ति होने पर समय से मिड डे मिल मिलने लगेगा। डीपीओ ने 45 हजार बच्चों के पोषाहार की डिमांड की

शून्य से पांच साल के 45 हजारों बच्चों को पोषाहार नहीं मिलने का मामला तूल पकड़ रहा। बच्चों को पोषाहार नहीं मिलने से अभिभावकों में आक्रोश है।

जिला कार्यक्रम अधिकारी विपिन मैत्रेय ने बाल विकास सेवा एवं पुष्टाहार निदेशक को भेजी रिपोर्ट में कहा कि 75826 बच्चों के लिए पोषाहार मिल रहा है, जबकि कुल 1.21 लाख 261 बच्चे हैं। यानी 45435 बच्चों को पोषाहार मिल ही नहीं रहा। उन्होंने निदेशक से उक्त बच्चों को पोषाहार उपलब्ध करवाने का अनुरोध किया है।

Edited By: Jagran