बागपत, जेएनएन। पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वालों को पर्यावरण संरक्षण के लिए उत्तरदायी बनाने का नायाब मामला सामने आया है। अवैध रूप से संचालित जींस रंगाई की दो फैक्ट्रियों के केमिकलयुक्त पानी से भूगर्भ को प्रदूषित करने पर एसडीएम ने संचालकों पर एक-एक हजार पौधे लगाने का जुर्माना लगाया। साथ ही दोनों फैक्ट्रियों को सीज कर दिया।

प्रशासन को नगर के आबादी क्षेत्र में अवैध जींस रंगाई की फैक्ट्री का संचालन होने की शिकायत मिली थी। इस पर गुरुवार को एसडीएम पुलकित गर्ग के नेतृत्व में प्रदूषण नियंत्रण विभाग की संयुक्त टीम ने मोहल्ला गुजरान देशराज में फखीरा के मकान में छापा मारा। यहां अवैध रंगाई का काम होता पाया गया। इसके बाद टीम ने एसपीसी डिग्री कालेज के निकट ग्राम शबगा निवासी माजिद की फैक्ट्री पर छापा मारा। यहां पर भी अवैध रूप से जींस रंगाई का कार्य किया जा रहा था। एसडीएम ने बताया कि दोनों फैक्ट्रियां आबादी क्षेत्र में थीं। दोनों फैक्ट्री संचालकों के पास क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से एनओसी नहीं थी। इनसे केमिकलयुक्त पानी नालियों में प्रवाहित हो रहा था। यह पानी भू-गर्भ को प्रदूषित कर रहा था। इसी कारण पब्लिक न्यूसेंस में सीआरपीसी की धारा- 133 के तहत दोनों फैक्ट्री संचालकों पर एक-एक हजार पौधे लगाने का जुर्माना लगाया है। फैक्ट्री संचालकों को जुर्माने से अवगत करा दिया गया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप